सर्दी का दिसंबर:5 डिग्री गिरा पारा 22 पर पहुंचा, आज भी छाए रहेंगे बादल

नागौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिसंबर की शुरुआत बुधवार को सर्दी के साथ हुई। सुबह से दिनभर छाए बादलों के चलते तेज सर्दी ने अहसास करा दिया है। दक्षिणी अंडमान सागर में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने और उत्तर-पश्चिमी भारत में नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से बुधवार को दिनभर जिले में बादल छाए रहे। बादलों की आगोश के चलते दिन में सर्दी का असर तेज हो गया और अधिकतम तापमान में 5 डिग्री की गिरावट के साथ 22 डिग्री दर्ज किया गया।

वहीं न्यूनतम तापमान 12 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। दरअसल, जयपुर माैसम विभाग ने मंगलवार को चेतावनी जारी करते हुए नागौर सहित प्रदेशभर में माैसम में बदलाव की संभावना जताई थी। सर्दी के असर के चलते शहर में लोग दिनभर गर्म कपड़े पहने नजर आए।

बुधवार को आसमान में बादल होने से सर्दी में ठिठुरन कुछ बढ़ गई है। माैसम विभाग के निदेशक राधेश्याम शर्मा का कहना है कि बुधवार काे दक्षिणी अंडमान सागर में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने से माैसम में बदलाव हुअा है। इसके साथ ही उत्तर-पश्चिमी भारत में नया पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय हो रहा है। जिससे गुरुवार को नागौर सहित प्रदेशभर में कई स्थानाें पर बादलाें के साथ हल्की से मध्यम दर्जें की बारिश हाे सकती है। रबी फसलों के लिए मौसम अनुकूल : कृषि विशेषज्ञों के अनुसार रात का पारा गिरने से रबी फसलों के अनुकूल मौसम है। जीरा, सरसों व गेहूं की फसलों की ग्रोथ बढ़ेगी। इसका फायदा फसल पैदावार के रूप में मिलेगा।

17 नवंबर : बंगाल की खाड़ी व अरब सागर में बने हवा के कम दबाव के चलते पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुअा था। जिससे नागौर में मौसम बदलना और बादल छाने से रात का पारा 8 डिग्री पर आ गया था। 1 दिसंबर : दक्षिणी अंडमान सागर में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने और उत्तर-पश्चिमी भारत में नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से बुधवार को फिर मौसम बदला और दिनभर बादल छाने से पारा में गिरावट दर्ज की गई। आज भी बदलेगा माैसम 1. 2 दिसंबर : गुरुवार को जोधपुर, कोटा, जयपुर,उदयपुर व अजमेर संभाग के जिलों में मेघ गर्जन एवं आकाशीय बिजली के साथ हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना है। 2. 3 दिसंबर : शुक्रवार काे भी प्रदेश में कई स्थानाें पर बादल छाए रहने के साथ मेघगर्जना के साथ बारिश हाे सकती है। पूर्वी राजस्थान में कहीं-कहीं हल्की बारिश की संभावना है।

खबरें और भी हैं...