REET रिजल्ट में सरकार की जल्दबाजी पर भास्कर सर्वे:90 फीसदी पाठक बोले- सरकार ने कानूनी पचड़े में फंसने से बचने के लिए ऐसा किया

नागौर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
परमाराम का प्रवेश पत्र। - Dainik Bhaskar
परमाराम का प्रवेश पत्र।

REET-2021 से पहले ही SOG पेपर लीक का खुलासा कर चुकी थी। SOG जांच ही पूरी नहीं हुई, लेकिन परीक्षा के 36 दिन बाद ही मंगलवार को बोर्ड ने रिजल्ट जारी कर दिया था। इसके बाद बोर्ड और सरकार ने अपनी पीठ थपथपाई, लेकिन जल्दबाजी में रिजल्ट जारी करने की इस हड़बड़ी में हुई हेराफेरी ने कई अभ्यर्थियों को परेशान कर दिया।

ऐसे में REET रिजल्ट जारी करने को लेकर सरकार की जल्दबाजी को लेकर दैनिक भास्कर ने पाठकों से सर्वे करवाकर पोल कराया। पोल में 90 प्रतिशत पाठकों का मानना है कि हां, सरकार ने कानूनी पचड़े में फंसने से बचने के लिए जल्दबाजी में REET रिजल्ट जारी किया। वहीं 10 प्रतिशत पाठकों का कहना है कि सरकार ने जल्दबाजी नहीं की है, बल्कि तय प्रक्रिया में इतना ही समय लगता है।

परमाराम की मार्कशीट।
परमाराम की मार्कशीट।

नागौर में आया था REET रिजल्ट में लापरवाही का मामला
नागौर के डेहरू गांव निवासी अभ्यर्थी परमाराम ने सोशल स्टडी सब्जेक्ट से REET परीक्षा दी। मगर बोर्ड ने उसका सब्जेक्ट बदलकर साइंस-मैथ्स के आधार पर रिजल्ट घोषित कर दिया। परमाराम ने बताया कि उन्होंने सोशल स्टडी सब्जेक्ट से आवेदन किया और प्रवेश पत्र के आधार पर इसी विषय से अजमेर केंद्र पर परीक्षा भी दी।

जब परिणाम जारी हुआ तो उनमें साइंस-मैथ्स लिखा देख वो हैरानी में पड़ गए। परमाराम ने बताया कि REET लेवल 2 परीक्षा के 150 सवाल जांचने थे, लेकिन मात्र 90 सवाल ही जांचें गए। सोशल स्टडी सब्जेक्ट आधारित 60 सवालों के नंबर ही नहीं दिए गए। अब इस बड़ी गड़बड़ी को लेकर बोर्ड में शिकायत करेंगे।

परमाराम ने बताया कि REET परीक्षा में जारी आंसर की के अनुसार उनके OMR शीट में 115 से 120 सवाल सही हैं। बोर्ड की तरफ से जारी किए गए परिणाम में उन्हें 150 में से मात्र 71 नंबर ही दिए गए। उन्होंने बताया कि सब्जेक्ट बदलने से विषय आधारित 60 सवाल जांचें ही नहीं, जिनके उन्हें नंबर नहीं मिले।

REET रिजल्ट में बड़ी लापरवाही:सोशल स्टडी से दी परीक्षा और जारी कर दिया साइंस-मैथ्स का परिणाम; 120 सवाल सही, लेकिन मिले 71 नंबर