मकराना SDM भी ACB जांच के घेरे में:1 दिन पहले सीनियर असिटेंट को 30 हजार रुपए लेते पकड़ा, पक्ष में फैसला देने के लिए ली थी रिश्वत

नागौर5 महीने पहले
आरोपी सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह। - Dainik Bhaskar
आरोपी सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह।

नागौर जिले के मकराना SDM ऑफिस के सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह के भ्रष्टाचार के मामले में एसीबी की गिरफ्त में आने के बाद अब SDM भी ACB जांच के घेरे में है। आरोपी सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह ने रेवेन्यू रिकॉर्ड ठीक करने के मामले में पक्ष में फैसला करने की एवज में परिवादी से 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। 20 हजार रुपए उसने सत्यापन के दौरान लिए और बाकी 30 हजार रुपए की राशि लेते सीकर ACB टीम ने उसे शुक्रवार को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। इस कार्रवाई के बाद से SDM जेपी बैरवा भी ACB जांच के दायरे में आ गए है। जब ये कार्रवाई हुई तो SDM बैरवा अपने चैंबर में ही बैठे थे। कार्रवाई के बाद ACB टीम ने उनसे पूछताछ भी की।

ACB सीकर इकाई के DSP जाकिर अख्तर ने बताया कि परिवादी से केवल सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह की ही शिकायत मिली थी। वेरिफिकेशन में ये साफ़ नहीं हो पाया था कि वो रिश्वत राशि अपने लिए मांग रहा था या किसी अन्य अधिकारी के लिए। उसे रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है। परिवादी के भी वो ही संपर्क में था। इस पुरे मामले में सभी पहलुओं की जांच की जा रही है। SDM की भूमिका अभी अंडर इन्वेस्टिगेशन है।

दरअसल मकराना SDM ऑफिस के सीनियर असिस्टेंट नंदसिंह ने रेवेन्यू रिकॉर्ड ठीक करने के मामले में पक्ष में फैसला करने की एवज में परिवादी से 50 हजार रुपए की डिमांड की थी। 20 हजार रुपए वो पहले ले चुका था। वहीं शुक्रवार को 30 हजार रुपए की रिश्वत राशि लेते उसे सीकर ACB टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। ACB टीम आरोपी से पूछताछ कर रही है।

SDM ऑफिस का रिश्वतखोर सीनियर असिस्टेंट गिरफ्तार:रेवेन्यू रिकॉर्ड दुरुस्तीकरण में डिसीजन करने के लिए मांगे 50 हजार, 30 हजार लेते पकड़ा