पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खेत का रास्ता नहीं दिया तो मां-बेटे को पिटा:विधवा महिला के घर के बीच में से खेत में जाने का रास्ता निकालना चाह रहे थे , मना किया तो घर में घुसकर लाठी-डंडो से मारा, पत्थरबाजी भी की

नागौर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़िता सरोज कंवर। - Dainik Bhaskar
पीड़िता सरोज कंवर।

नागौर के मौलासर थाना क्षेत्र के डाबड़ा गांव में दंबगों ने एक गरीब विधवा के घर में घुसकर के उसके परिवार पर हमला कर दिया। इस दौरान बेटे व महिला पर लाठी-डंडे बरसाना शुरू कर दिए। मामला दो दिन पुराना है लेकिन बुधवार को महिला ने इस मामले का एक वीडियो जारी किया। विधवा महिला ने बताया कि यह लोग उसके घर के बीच में से उनके खेत पर जाने का रास्ता निकालना चाह रहे थे लेकिन जब मना किया तो जबरदस्ती की और पत्थरबाजी करने लगे। इसकी शिकायत पुलिस में भी दी लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

सरोज कंवर पत्नी सज्जन सिंह राजपूत निवासी डाबड़ा ने बताया कि दो दिन पहले सोमवार रात में वो और उसकी बेटी घर में सो रही थी और उसका बेटा कुलदीप किसी काम से धनकोली गया हुआ था। इसी दौरान धर्मेंद्र सिंह पुत्र आसु सिंह, व बजरंग सिंह पुत्र भंवर सिंह निवासी डाबड़ा जबरदस्ती उसके घर में घुस गए और दोनों मां-बेटी के साथ गलत हरकत करते हुए मारपीट शुरू कर दी। जब दोनों मां-बेटी ने हल्ला मचाया तो आरोपियों ने पीड़िता विधवा के सर में लाठी से वार करते हुए भाग गए।

थोड़ी देर बाद धर्मेंद्र सिंह और बजरंग सिंह अपने परिजनों धन सिंह, जोर सिंह, मनोहरकंवर, गेंदकंवर, महेंद्रसिंह, प्रेमकंवर, एसएस डाबड़ा व श्रवणसिंह सहित कई अन्य अपने साथ लाठी-डंडे और हथियार लेकर वापस आये और पीड़िता सरोज कंवर के घर पर जमकर पत्थरबाजी शुरू कर दी। इस दौरान पीड़िता का बेटा कुलदीप भी घर पहुंच गया। आरोपियों ने पीड़िता सरोज कंवर, उसके बेटे और बेटी के साथ जमकर मारपीट की और उसके घर की तारबंदी और दीवारों को भी तोड़ दिया। इतना ही नहीं सभी आरोपियों ने पीड़िता के नल कनेक्शन को भी काट दिया और उसे जल्द से जल्द घर छोड़कर भाग जाने का कहते हुए जान से मारने की धमकियां भी दी।

बताया जा रहा है कि आरोपी पीड़िता के घर कि जगह में से अपने लिए रास्ता निकालना चाहते हैं। पीड़िता गरीब है और विधवा है। घर में भी चार बेटियों के अलावा इकलौता बेटा है। इसके चलते पीड़िता कि कमजोर हालत को देखकर आरोपी जोर जबरदस्ती कर पीड़िता को घर खाली कर भागने पर मजबूर कर रहे है ताकि वो यहां कब्जा कर अपना रास्ता निकाल सके। पीड़िता सरोज कंवर ने बताया कि ने आरोपियों के परिवार में एक महिला कुचामन पुलिस थाने में कांस्टेबल पद पर कार्यरत है और उसीके प्रभाव के चलते पुलिस आरोपियों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

खबरें और भी हैं...