पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • After Graduation, I Got An Offer From Europe During My Job In Pune, I Didn't Want To Become A RAS, I Have Also Worked As Patwari And IO.

RAS 2018 नागौर के मनीष की 115वीं रैंक:पुणे में एमएनसी कंपनी में जॉब के दौरान यूरोप जाने का ऑफर मिला, RAS बनना था इसलिए गांव आए, पटवारी व  IA के पद पर पर रहे

नागौर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनीष छरंग। - Dainik Bhaskar
मनीष छरंग।

नागौर जिले में मेड़ता क्षेत्र के ईग्यासनी गांव के रहने वाले मनीष छरंग पुत्र भंवरलाल छरंग ने RAS 2018 में 115वीं रैंक प्राप्त की है। मनीष ने बीटेक में ग्रेजुएशन किया हुआ है और RAS में उन्हें पहले प्रयास में ही ये सफलता मिली है। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया कि उनके पेपर अच्छे हुए थे और उन्हें अपने सलेक्शन को लेकर पूरा भरोसा था।

मनीष ने बताया कि इससे पहले वे पुणे की एमएनसी कंपनी में जॉब करते थे और इस दौरान उन्हें यूरोप में काम करने का भी ऑफर मिला लेकिन उन्होंने यह आफर ठुकरा दिया। क्योंकि उनका सपना था कि वे RAS और IAS अधिकारी बनना चाहते थे। इसके बाद गांव आकर उन्होंने तैयारी शुरू कर दी। RAS में चयनित होने से पहले उनका पटवारी और सुचना सहायक (IA) में भी सलेक्शन हुआ था और उन्होंने ये दोनों ही नौकरियां की। वर्तमान में मनीष पाली जिले की बाली तहसील में सुचना सहायक के पद पर कार्यरत है।

ये भी पढ़े ... 2 महीने पहले कोरोना से पिता का देहांत हुआ, उनका सबसे बड़ा सपना था बेटा RAS बने, पहले प्रयास में ही सफल हुए तो सिद्धार्थ बोले- ये उनका ही आशीर्वाद

खबरें और भी हैं...