रेप आरोपी की मौत पर विवाद थमा:पुलिस टीम और रेप पीड़िता के परिजनों के खिलाफ दर्ज हुई मर्डर की FIR, पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपर्द

नागौर6 महीने पहले
मृतक आरोपी के घर गमगीन महिलाएं।

रेप के आरोपी की पुलिस कस्टडी के दौरान मौत पर तीसरे दिन पोस्टमार्टम को लेकर सहमति बन गई। पुलिस टीम और रेप पीड़िता के परिजनों के खिलाफ मर्डर की FIR दर्ज हुई है। दरअसल नागौर की कुचामन पुलिस रेप आरोपी को आंधप्रदेश से पकड़कर कुचामन ला रही थी। इस दौरान आरोपी की तबियत बिगड़ गई। आखिर मौत हो गई थी ।

सोमवार को जयपुर स्थित SMS हॉस्पिटल में परिजनों और पुलिस के बीच पुलिस टीम और रेप पीड़िता के परिजनों के खिलाफ SMS हॉस्पिटल थाने में मर्डर की FIR दर्ज करने के बाद पोस्टमार्टम को लेकर सहमति बनी। देर शाम पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया।

इससे पहले परिजनों का आरोप था कि रेप पीड़िता के परिजनों और पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए, मृतक के परिजनों को 50 लाख का आर्थिक मुआवजा दिया जाये और एक आश्रित को सरकारी जॉब दी जाए। वहीं, एक दिन पहले रविवार सुबह मामले की गंभीरता को देखते हुए SP अभिजीत सिंह और कुचामन CO संजीव कटेवा भी जयपुर स्थित SMS हॉस्पिटल पहुंचे। इस दौरान SMS हॉस्पीटल थाने में नागौर SP ने मृतक के परिजनों व रिश्तेदारों से बातचीत करी और पोस्टमार्टम करवाने की बात कही लेकिन परिजन अपनी मांगों पर अड़े रहे। परिजनों ने 50 लाख रूपए का मुआवजा देने, किसी एक परिजन को सरकारी नौकरी देने और मृतक को आंधप्रदेश से लेकर आने वाले तीनों पुलिसकर्मियों व उनके साथ पडिता के परिजनों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई थी।

इस पर एसपी अभिजीत सिंह ने बताया था कि मृतक युवक को आंधप्रदेश से जो पुलिसकर्मी लेकर आ रहे थे उन्हें तुरन्त लाइन हाजिर कर दिया गया है और मामले की जांच कुचामन एएसपी गणेशराम चौधरी को दे दी गई है। एसपी ने कहा की मुआवजा और सरकारी नौकरी देना प्रशासनिक अधिकारियों व राज्य सरकार के हाथ की बात है।

मृतक आरोपी।
मृतक आरोपी।

ये है मामला
कुचामन पुलिस थाने में एक विवाहिता ने मीठड़ी निवासी सुनील कुमावत ( 30) पर दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी। जांच में पुलिस को आरोपी की लोकेशन आंध्र प्रदेश के काकूलम जिले में मिली। इसके बाद आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए हैड कॉन्स्टेबल इकबाल खान के साथ दो कॉन्स्टेबलों को निजी वाहन के जरिए आंध्र प्रदेश के लिए रवाना कर दिया गया।

इस दौरान पुलिस टीम ने आरोपी को पकड़ लिया। अपने साथ लेकर रवाना हो गए। पुलिस के अनुसार शनिवार दोपहर दौसा पहुंचने पर आरोपी की तबीयत खराब हुई तो उसे दौसा के राजकीय अस्पताल में दिखाया। जहां चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार कर उसे जयपुर के लिए रेफर कर दिया। पीड़ित को एम्बूलेंस के जरिए जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।