निर्माण कार्य शुरू:नर्सिंग कॉलेज के लिए मेडिकल कॉलेज से सटी 20 बीघा जमीन आवंटित की, काम भी जल्द शुरू होगा

नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नर्सिंग कॉलेज के लिए मेडिकल कॉलेज से सटी 20 बीघा भूमि आवंटित हो चुकी है। उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द की नर्सिंग कॉलेज की नींव रख निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। बता दें कि सीएम अशोक गहलोत ने नागौर में नर्सिंग कॉलेज खोलने की गत बजट में घोषणा की थी, इसी को लेकर पिछले माह पांच सदस्यों की एक कमेटी ने शहर के अलग-अलग हिस्सों में घूम कॉलेज के लिए जमीन चिन्हित करने की एक रिपोर्ट तैयार की थी। जिन्होंने रिपोर्ट तैयार कर जयपुर भिजवा दी थी।

जिसमें मेडिकल कॉलेज से सटी जमीन को उपयोगी मानते हुए अब मुहर लगा दी गई है। कमेटी का तर्क था कि मेडिकल कॉलेज व जेएलएन अस्पताल के पास नर्सिंग कॉलेज होने से भविष्य में स्टूडेंट्स की ड्यूटी व प्रशिक्षण के लिए सुविधा होगी। पीएमओ डॉ. महेश पंवार ने बताया कि इसके लिए मेडिकल कॉलेज से सटी बीस बीघा जमीन चिन्हित की थी और अब उसका आवंटन भी हो गया।

कमेटी में इन्होंने की थी रिपोर्ट तैयार
जिला प्रशासन व जयपुर स्तर पर जमीन को फाइनल करने में शहर के अलग अलग हिस्सों में सर्वे कर एक रिपोर्ट तैयार की गई थी। जोकि राज्य की बनी सोसायटी को भेजी गई। बता दें कि नर्सिंग कॉलेज के लिए एक कमेटी का गठन किया था, जिसमें पीएमओ डॉ. पंवार, सीएमएचओ डॉ. मेहराम महिया, एएनएम इंचार्ज विजय शर्मा, सरकारी नर्सिंग कॉलेज (जयपुर) के ट्यूटर मुकेश शर्मा व आरयूएचएस (जयपुर) के ट्यूटर विक्रम मीणा शामिल थे। इन्होंने मेडिकल कॉलेज के पास ही जमीन को नर्सिंग कॉलेज के लिए उपयुक्त समझा और विजिट कर एक रिपोर्ट तैयार कर भेज दी थी।

आगे ये उम्मीद जगी : एएनएम इंचार्ज विजय शर्मा ने बताया कि उम्मीद है कि इसी साल नर्सिंग कॉलेज का निर्माण कार्य शुरू हो सकता है। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज व जेएलएन अस्पताल के आसपास ही नर्सिंग कॉलेज के लिए भूमि तय कर दी गई है। इसी सत्र राज्य सरकार अगर नर्सिंग कॉलेज के लिए पहला बैच देती है तो फिलहाल एएनएम सेंटर पर ही वो चालू हो सकता है। पहले बैच के लिए 30 से 40 स्टूडेंट्स मिल सकते है। अभी 100 विद्यार्थियों की व्यवस्था है। पहला बैच 50 से कम ही स्टूडेंट का मिलेगा।

खबरें और भी हैं...