• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • By Luring Rs 4 Crore, He Kept Cheating Retired Employee In The Name Of Tax For 8 Months, Called For Money In Different Accounts

4 करोड़ के लालच में पौने दो करोड़ गंवाए:बीमा क्लेम का फर्जी चेक दिखा 8 महीने तक रिटायर्ड कर्मचारी से करते रहे ठगी

नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक - Dainik Bhaskar
डेमो पिक

एक रिटायर्ड कर्मचारी के साथ 1.61 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। मामले में ठगों ने पीड़ित को फोन करके सूचना दी कि उसकी HDFC बैंक में इंश्योरेंस कराई गई थी। उसका मैच्योरिटी क्लेम मिलने वाला है। अमाउंट करोड़ों में है। इसलिए पहले इनकम टैक्स जमा कराना होगा। तब जाकर चेक घर भेजा जाएगा। पीड़ित ने 8 महीने में ठगों के अलग-अलग खातों में 1 करोड़ 61 लाख 86 हजार 458 रुपए जमा करवा दिए। अब पीड़ित ने नागौर के कुचेरा थाने में ठगी का मामला दर्ज कराया है।

इनकम टैक्स का बहाना बनाया
पुलिस के अनुसार, कुचेरा थाने में रूपाथल निवासी हरिराम चौधरी ने रिपोर्ट दी कि उसके मोबाइल पर IRDA कम्पनी नाम से मैसेज आया। उसकी ID मांगी गई थी। इसके बाद उन्ही नंबरों से कॉल करके उसे विश्वास में लिया कि IRDA कम्पनी ने उसकी HDFC बैंक में इंश्योरेंस करवा रखी है। अब उसका मैच्योरिटी फंड मिलेगा। इस पर उसने उन्हें अपनी ID भेज दी। इसके बाद ठगों के बताए अनुसार वो 8 महीनों तक अलग- अलग अकाउंट्स में 1 करोड़ 61 लाख 86 हजार 458 रुपए जमा करवा चुके हैं।

पीड़ित ने बताया कि उसके फोन पर अशोक शर्मा, सौरभ अरोड़ा, संगीता मेम, आयुष्मान साहू, अजय शर्मा व मानव गुप्ता के मोबाइल नम्बरों से गत 10 दिसम्बर तक फोन आते रहे। उसने IDFC बैंक दिल्ली में RBS के अकाउंट में 1,67,454 रुपए, गीताजनी सर्विसेज IDFC बैंक मुम्बई में 49,75,068 रुपए, राहुल कुमार के मुंबई अकाउंट में 90,78,280 रुपए और मोहम्मद नदीम वाकसी के HDFC बैंक मुम्बई के खाते में 1,96,456 रुपए जमा करवाए। यह मामला मई 2021 से ही शुरू हो गया था।

4 करोड़ के चेक की फोटो कॉपी भेज झांसे में लिया

ठगों ने हरिराम को झांसे में लेने के लिए ऑनलाइन चेक की फोटो कॉपी भेजी। इसमें 3 करोड़ 94 लाख 12 हजार 320 रुपए का चेक था। कहा कि यह ओरिजिनल चेक लेने के लिए उन्हें राज्य के बाहर का व्यक्ति होने के चलते इनकम टैक्स जमा करना होगा। इसी बात में आकर हरिराम ठगों के झांसे में आ गए। उन्होंने यह भी झांसा दिया कि आपको करीब चार करोड़ रुपए मिल रहे हैं, तो डेढ़ करोड़ बड़ी रकम नहीं है। ऐसे में हरिराम ने रिश्तेदारों से पैसे उधार लिए और जमा करा दिए।