पूर्व मंत्री मिर्धा के बेटे:राघवेंद्र सहित तहसीलदार व पटवारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज

नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किनसरिया निवासी एक व्यक्ति ने पूर्व मंत्री हरेंद्र मिर्धा के पुत्र राघवेंद्र मिर्धा सहित सात जनों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कराया है।

पुलिस को सौंपी रिपोर्ट में किनसरिया निवासी शंकरलाल पुत्र हरजीराम मेघवाल ने बताया कि राघवेंद्र मिर्धा पुत्र हरेंद्र मिर्धा, परबतसर निवासी रोबिनसिंह सैनी पुत्र गोरधनलाल, कमल दिवाकर पुत्र बंशीलाल, लोकेश मालाकार पुत्र फतेहचन्द, तहसीलदार जगराज मीणा,

पटवारी हल्का पटवार हल्का समय सिंह मीणा, उप पंजीयक सब रजिस्ट्रार परबतसर के खिलाफ इस्‍तगासा पेश किया है। मामले के अनुसार परिवादी ने बताया कि उन्होंने परबतसर में गिगोली रोड पर स्थित खसरा नम्बर 2329/4 रकबा 0.1619 हैक्टेयर जमीन कृषि भूमि जरिए रजिस्टर्ड खरीद गीता देवी पत्नी डॉ. लक्ष्मण मोहनपुरिया रेगर निवासी कुचामनसिटी से की थी।

इस खरीद शुदा भूमि का नामान्तकरण दर्ज करने के लिए पटवारी हल्का परबतसर को उक्त बेचान रजिस्ट्री की फोटो प्रति दे दी थी। पटवारी हल्का ने परिवादी को बताया कि परिवादी का नामान्तकरण दर्ज कर देगें। हाल ही में परिवादी को उक्त खसरे की नकल प्राप्त करने पर पता चला है

कि उक्त जमीन दूसरे खातेदार के नाम दर्ज हो रखी है कि पटवारी हल्का, तहसीलदार परबतसर ने एवं अभियुक्त संख्या 1 2 व 4 ने छल कपट करते हुए कुटरचित दस्तावेज तैयार कर तैयार कर परिवादी को खातेदारी अधिकारों से वंचित करने की नियत से परिवादी जो अनुसूचित जाति का है

कि जमीन का षड़यंत्र रचकर छल कपट के प्रयोजन से कुटरचित दस्तावेज तैयार कर फर्जी तरीके से पटवारी हल्का व तहसीलदार परबतसर ने मिलीभगत कर बहुमूल्य सम्पति को हड़पने की धारणा रखते हुए जमीन हड़प ली। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

खबरें और भी हैं...