पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकरण में गड़बड़ी का मामला:गलत सर्टिफिकेट को लेकर सीएमएचओ के दो जवाब; पहले सॉफ्टेवयर की गड़बड़ी बताई, फिर-कमेटी गठित

नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वैक्सीन की खुराक लिए बिना ही टीका लगाने का सर्टिफिकेट जारी करने के मामले की जांच शुरू हो गई है। पुराना अस्पताल में बुधवार को कई लोगों के बिना टीका लगाए ही वैक्सीनेशन करने का बधाई सर्टिफिकेट जारी किया। मामले को भास्कर ने प्रमुखता के साथ प्रकाशित कर इस गड़बड़ी को उजागर किया था।

खबर छपते ही सीएमएचओ डॉ. मेहराम महिया सहित चिकित्सा विभाग के अधिकारी हरकत में आए। गुरुवार को टीकाकरण में गड़बड़ी को लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है। इधर, मामले को लेकर सीएमएचओ महिया से जब पूछा गया कि यह गड़बड़ी किस स्तर पर हुई है? तो पहले बोले- जयपुर स्तर पर सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के चलते एक को टीका लगने का गलत सर्टिफिकेट जारी हुआ।

फिर उनसे यह कहा गया कि 1 से अधिक लोगों को बिना टिका लगाए ही सर्टिफिकेट जारी हुआ है, तो बोल पड़े जांच को लेकर हमने कमेटी का गठन किया। यानी टीकाकरण में गड़बड़ी के मामले को लेकर सीएमएचओ खुद संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए।

न मैसेज मिल रहे हैं, न टीकाकरण की दूसरी तिथि: दूसरी लहर के बीच हर कोई टीका लगवाने के लिए उत्साहित हैं। मगर टीकाकरण में चल रहे गड़बड़ी के खेल को लेकर हर कोई परेशान भी है। हालात यह है जिन्होंने पहली डोज लगवा ली है उनको दूसरी डोज कब लगवानी है? मैसेज तक नहीं मिल रहा। जो दूसरा टीका लगवाने अस्पताल पहुंच रहे हैं उन्हें वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने का हवाला देकर वापस घर लौटाया जा रहा है।

अपनों के लगा रहे हैं टीके
चिकित्सा विभाग से जुड़े के अधिकारियों व कर्मचारियों के द्वारा अपने रिश्तेदारों का टीकाकरण उनके घर पर पहुंचकर करने का मामला भी सामने आया है। कर्मचारी ने नाम नहीं छापने के आधार पर बताया कि स्टाफ के कई लोगों ने अपने रिश्तेदारों का घर पर पहुंचकर टीके लगवाए हैं। मामले में अधिकारी भी चुप्पी साधे हुए हैं।

खबरें और भी हैं...