पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नियम से ज्यादा अनुबंध पर निजी बसें लगाई:विरोध में कर्मचारियों का धरना, 30% से ज्यादा निजी बसें पर लगाने का मामला

नागौर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डिपाे परिसर में धरने पर बैठे संयुक्त माेर्चा पदाधिकारी व कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
डिपाे परिसर में धरने पर बैठे संयुक्त माेर्चा पदाधिकारी व कर्मचारी।

राजस्थान स्टेट रोडवेज कर्मचारी संयुक्त मोर्चा नागौर द्वारा डिपो परिसर में बुधवार को धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। नागौर आगार में नियम से ज्यादा अनुबंध पर निजी बसें लगाने के विरोध में विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी व कर्मचारी उतर आए। संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष मेहराम फरड़ौदा ने बताया कि नागौर आगार में पाली आगार से 10 अनुबंधित बसों को कार्यकारी निदेशक यातायात मुख्यालय जयपुर के द्वारा 13 जुलाई को स्थानातंरण कर दी।

जबकि नियम है कि एक आगार में कुल शैड्यूल से 30 फीसदी ही निजी बसें अनुबंध पर लगाई जा सकती है। मगर नागौर आगार में पहले से 27 बसें अनुबंधित है। वर्तमान में पाली से 10 और बसें नागौर स्थानातंरण करने से कुल 37 बसें हो गई है। जो कुल शैड्यूल का 45 फीसदी से ज्यादा है, जो नियम विरुद्ध है। संयुक्त मोर्चा ने प्रबंध निदेशक के नाम ज्ञापन भेजकर पाली से नागाैर स्थानातंरण की गई 10 बसाें के आदेश काे निरस्त करने की मांग की है।

विराेध में जुटे यह संगठन

एटक यूनियन के जिलाध्यक्ष हरिराम जाजड़ा, इंटक यूनियन के जिलाध्यक्ष नरपत भाकल, बीएमएस के जिलाध्यक्ष सुरेश बिश्नाेई, सेनि. एसोसिएशन जिलाध्यक्ष अर्जुनराम ने धरने का समर्थन किया है।

खबरें और भी हैं...