श्रीमद् भागवत कथा:कर्मों का फल तो सबको यही पर मिलता है : संत

नागौर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के किसान छात्रावास के पास पिछले सात दिनों से चल रही श्रीमद् भागवत कथा शुक्रवार को सम्पन्न हुई। इस दौरान कथा वाचक अभिषेक कृष्ण सारस्वत महाराज ने कहा कि मनुष्य को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है। कर्मों के आधार पर ही मनुष्य की महानता निर्धारित होती है।

उन्होंने कहा है कि मनुष्य देह अत्यंत ही दुर्लभ है। ऐसे में इस जीवन का सदुपयोग परोपकार करके किया जा सकता है। इस संसार के भवसागर को पार करने के लिए हमें भक्ति करनी जरूरी है। कथा आयोजक मंडल गणपतलाल सारस्वत, सीताराम सारस्वत, राजेंद्र, धर्मचंद नागोरिया, परिवार के सान्निध्य में आयोजित इस कथा में कथावाचक अभिषेक के कृष्ण सारस्वत तथा प्रीतम बृजवासी, कपिल शर्मा, योगेंद्र शर्मा की जुगलबंदी में शानदार आयोजन हुआ।

इस मौके पर राधा कृष्ण व सुदामा की झांकी सजाई गई। शनिवार को यज्ञ के आयोजन के साथ श्रीमद् भागवत कथा की पूर्णाहुति होगी। इस मौके पर गोविंद सारस्वत, साध्वी इंदु कृष्णा, द्वारकाप्रसाद जाजू, पुष्पा सारस्वत, कंचन सारस्वत, पारा देवी, सीता देवी, शारदा देवी, बिल्ला देवी, सुमन देवी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...