पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • Father Died From Corona 2 Months Ago, His Biggest Dream Was To Become A RAS Son, If Successful In The First Attempt, Siddharth Said This Is His Blessing

RAS 2018 नागौर के सिद्धार्थ की 10वीं रैंक:2 महीने पहले कोरोना से पिता का देहांत हुआ, उनका सबसे बड़ा सपना था बेटा RAS बने, पहले प्रयास में ही सफल हुए तो सिद्धार्थ बोले- ये उनका ही आशीर्वाद

नागौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिद्धार्थ सांदू।  - Dainik Bhaskar
सिद्धार्थ सांदू। 

नागौर जिले में गोटन क्षेत्र के शिव गांव के रहने वाले सिद्धार्थ सांदू ने RAS 2018 में टॉप 10 में स्थान हासिल करते हुए 10वीं रैंक प्राप्त की है। सिद्धार्थ ने उदयपुर की मोहनलाल सुखाड़िया यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन किया हुआ है और वो गोल्ड मेडलिस्ट है। RAS में उन्हें पहले प्रयास में ही ये सफलता मिली है। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया कि उनके पेपर अच्छे हुए थे पर उन्हें इस रैंक का अंदाजा नहीं था।

अपने स्वर्गवासी पिता सुभाष सांदू के साथ सिद्धार्थ सांदू।फ़ाइल फोटो।
अपने स्वर्गवासी पिता सुभाष सांदू के साथ सिद्धार्थ सांदू।फ़ाइल फोटो।

सिद्धार्थ सांदू के पिता सुभाष सांदू भी भीलवाड़ा में सेल्स टेक्स के डिप्टी कमिश्नर के पड़ पर तैनात थे, जिनका कोरोना की दूसरी लहर में महामारी की चपेट में आने से देहांत हो गया था। सिद्धार्थ बताते है कि उनके पिता का सबसे बड़ा सपना यही था कि उनका बेटा RAS बने। वो कहते है कि उनका ये परिणाम और ये रैंक उनके स्वर्गवासी पिता का ही आशीर्वाद है। सिद्धार्थ की बहन भी जोधपुर में फर्स्ट ग्रेड लेक्चरर के पद पर कार्यरत है। वहीं उनके बड़े पिता महिपाल सांदू​​​​​​ नागौर में बीईओ के पद पर कार्यरत है।

खबरें और भी हैं...