पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • Geological Recharges Are Done By Filling The Water In Houses In Pits; Here, Water Is Found On 15 To 25 Feet Of Excavation; There Is No Problem Of Dirt And Waterlogging Due To Lack Of Drains In The Entire Village.

बुजुर्गों के प्रयासों से यहां जल संरक्षण:घरों का पानी गड्ढों में भरकर करते है भूगर्भ रिचार्ज, यहां 15 से 25 फ़ीट खुदाई पर मिलता है पानी; पूरे गांव में नालियां नहीं होने से गंदगी और जलभराव की भी नहीं होती समस्या

नागौरएक महीने पहले
डूकिया गांव में नहीं है जलसंकट।

जिले में कई क्षेत्रों में भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवेलों में पानी आना ही बंद हो गया है, लेकिन जिले की भंवाल ग्राम पंचायत के डूकिया गांव में जल संकट नहीं है। इस के आस-पास के गांवों में 500 फ़ीट से नीचे भी पानी नहीं मिल रहा है, लेकिन इस गांव में महज 15 से 25 फीट नीचे ही ओपन वेल में हर समय पानी रहता है।

बुजुर्गों के बनाये अनूठे नियम से नहीं होता यहां जल संकट
यहां के बुजुर्गों ने कई सालों पहले एक अनूठा नियम बनाया, जो अब आज यहां के लोगों के लिए परंपरा का रूप ले चुका है। बुजुर्गों ने पानी को सहेजने के लिए पूरे गांव में कहीं भी नाली न बनवाकर हर घर के सामने कच्चे गड्ढे खुदवाए और घरेलू उपयोग में आने वाले पानी को नालियों में बहाने के बजाय इन गड्ढों में भरवाया।

उनका मानना था कि इससे भूगर्भ रिचार्ज होता है। बुजुर्गों के इस नियम का आज भी पालन किया जा रहा है और पूरे गांव में कहीं भी नाली नहीं है, बल्कि हर घर के बाहर गड्ढे खोदकर घरेलू उपयोग में खर्च होने वाले पानी को गड्ढों में छोड़ा जाता है।

डूकिया गांव में महज 20 फ़ीट नीचे ओपन वेल से निकल रहा पानी।
डूकिया गांव में महज 20 फ़ीट नीचे ओपन वेल से निकल रहा पानी।

250 घरों की आबादी में कहीं भी नहीं है जल संकट
जागरूक युवा महेंद्र सिंह रोज ने बताया कि भूगर्भ को रिचार्ज करने के चलते ही आज इस गांव के 250 घरों में कहीं भी कोई जल संकट नहीं है, अलबत्ता किसानों को भी सिंचाई के लिए कोई जल संकट नहीं है। गांव में कहीं भी 15 से 25 फ़ीट की खुदाई करते ही पानी की अमृत धार निकल आती है। सभी ग्रामीण इसी भूगर्भ के पानी का ही उपयोग अपने घरों में करते हैं। इसके उलट इस गांव से महज 2 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत मुख्यालय भंवाल में 250 फ़ीट पर पानी मिलता है तो आस- पड़ोस के अन्य गांवों में 500 फ़ीट पर भी पानी नहीं है।

पूरे गांव में कहीं भी नालियां नहीं हैं, जिसके चलते यहां गंदगी भी नहीं होती है।
पूरे गांव में कहीं भी नालियां नहीं हैं, जिसके चलते यहां गंदगी भी नहीं होती है।

गंदगी भी नहीं होती, जलभराव की भी नहीं है समस्या
गांव में कहीं भी नालियां नहीं होने और घरों का पानी गलियों और सड़कों पर छोड़ने के बजाय गड्ढों में भरने से यहां गंदगी भी नजर नहीं आती है और पूरे गांव में एक भी जगह जलभराव की समस्या भी नहीं है।

खबरें और भी हैं...