मुंबई पुलिस को स्लमबाई पुलिस कहता था सरगना:ट्वीट किया- पुलिस ने गलत लोगों को पकड़ लिया, बुल्ली बाई ऐप मैंने बनाया है

नागौर14 दिन पहले

बुल्ली बाई ऐप मामले में नागौर के युवक को दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी के बाद कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। आरोपी इंजीनियर स्टूडेंट ट्विटर पर मुंबई पुलिस को खुलेआम गालियां देकर चुनौती देता था कि उन्होंने गलत लोगों को पकड़ लिया है। वो मुंबई पुलिस को स्लम बाई पुलिस कहकर बुलाता था।

मास्टर माइंड नीरज ने @giyu नाम से ट्वीट कर खुद को ऐप का मास्टर माइंड बताते हुए दावा किया था कि ये ऐप उसने बनाया है। उसने ट्वीट कर बताया था कि मुंबई पुलिस ने गलत लोगों को पकड़ लिया है। श्वेता और विशाल का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। उन्हें जल्द से जल्द रिहा करें। उसने दावा किया था कि वो ही श्वेता और विशाल के सोशल मीडिया अकाउंट ऑपरेट कर रहा था।

ट्वीट के जरिए दावा किया था कि उन्होंने गलत लोगों को पकड़ लिया है। इसमें नीरज ने पुलिस को गाली भी दी थी।
ट्वीट के जरिए दावा किया था कि उन्होंने गलत लोगों को पकड़ लिया है। इसमें नीरज ने पुलिस को गाली भी दी थी।

मुंबई पुलिस को देता था गाली, हर ट्वीट में कहा- स्लम पुलिस
नीरज अपने हर ट्वीट में मुंबई पुलिस को गाली देता था। उसने अपने हर ट्वीट में मुंबई पुलिस को स्लम पुलिस लिखा। कुछ ट्वीट में पुलिस के लिए भद्दे कमेंट भी किए थे। उसका कहना था कि मुंबई पुलिस जिन लोगों को पकड़ रही है वो इनोसेंट है। अगर उन्हें ऐसा लगता है कि श्वेता ने ये एप बनाई है तो उससे इस एप की आईडी और कोड पूछना। वो नहीं बता पाएगी।

मुंबई पुलिस को चैलेंज, सरेंडर कर दूंगा

ट्वीट के जरिए नीरज मुंबई पुलिस को चैलेंज करता था। वो कहता था कि अगर कोई मुंबई फ्लाइट का बंदोबस्त कर देता है तो वो वहां जाकर पुलिस के सामने सरेंडर कर देगा। उसने ये भी कहा था कि इस एप पर एक भी महिला की नीलामी नहीं की थी। नीरज ने एक और ट्वीट में ये भी दावा किया था कि 'जब यह सब शुरू हुआ तो उसे इस बारे में ज्यादा पता नहीं था कि इससे क्या हो सकता है। उसने ये भी बताया कि श्वेता और विशाल उसके दोस्त है पर उन्हें ये पता नहीं था कि वो उनके अकाउंट से क्या कर रहा था।

नीरज का ट्वीट। इसमें उसने ये दावा किया था उसने ये ऐप बनाई है।
नीरज का ट्वीट। इसमें उसने ये दावा किया था उसने ये ऐप बनाई है।

मुंबई पुलिस इन ट्वीट्स को ट्रेक कर आरोपी को पकड़ती, इससे पहले ही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नीरज को असम के जोरहाट से गिरफ्तार कर लिया। गुरुवार को आरोपी को दिल्ली कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 10 जनवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। कोर्ट ने पुलिस को इस मामले में नीरज के ठिकानों की तलाशी लेने की परमिशन भी दी है।

ऐप का मास्टर माइंड मुंबई पुलिस को स्लम बाई पुलिस कहकर बुलाता था।
ऐप का मास्टर माइंड मुंबई पुलिस को स्लम बाई पुलिस कहकर बुलाता था।

राजस्थान में नागौर के रोटू गांव का रहने वाला नीरज जन्म के बाद से ही अपने परिवार के साथ असम के जोरहाट में रह रहा था। अभी हाल ही में नवंबर महीने में अपने परिवार में किसी शादी कार्यक्रम में शरीक होने राजस्थान आया था। नीरज के पिता दशरथ बिश्नोई असम में एक दुकान चलाते हैं। वह दो बहन के बाद सबसे छोटा है। पिता ने बताया था कि उसके पास दिन भर अनजान नंबरों से फोन आया करते थे। पूरे दिन वह कंप्यूटर में घुसा रहता था और देर रात तक काम करता था।
महिलाओं की ऑनलाइन बोली लगाता था नागौर का युवक:बुल्ली बाई ऐप के मास्टर माइंड ने ली थी स्पेशल ट्रेनिंग, पकड़ा गया