विधायक ने की सामुदायिक भवन बनाने की घोषणा:जसनाथ मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम आयोजित, खारिया के जसनाथ बाड़ी में आयोजित किया गया कार्यक्रम

नागौर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

खारिया में गुरुवार सुबह 11.15 बजे गुरु जसनाथ की बाड़ी में नवनिर्मित मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन किया गया। इस दौरान क्षेत्र के सैंकड़ो लोग उपस्थित हुए। बुधवार रात्रि को जागरण कार्यक्रम हुआ तथा गुरुवार सुबह हवन एवं महाप्रसादी के साथ मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम हुआ। इस दौरान संत समाज से पांचला सिद्धा धाम के पीठाधीश्वर सूरजनाथ महाराज एवं महामंडलेश्वर आचार्य बजरंगदास महाराज श्रीबालाजी सेवा धाम एवं बारानी शिव मंदिर के महंत परमेश्वर गिरी महाराज चिताणा महंत भूरनाथ महाराज सहित अलग-अलग मंदिरों के पीठाधीश्वर महंत कार्यक्रम में उपस्थित रहे। कार्यक्रम में पूर्व केंद्रीय मंत्री सी.आर. चौधरी, विधायक मोहनराम चौधरी, जिला प्रमुख भागीरथ चौधरी, भोपालगढ़ के पूर्व विधायक नारायणराम बेड़ा, पदमश्री हिम्मताराम भाम्बू, उद्योगपति सूरजमल माकड़, भोजास सरपंच जगदीश बिडियासर, दीपाराम लोयल, धुंधवाल ढाणी के सरपंच भंवराराम गोदारा उपस्थित रहे। विधायक चौधरी ने मंदिर परिसर में सामुदायिक भवन बनाने की घोषणा की। वहीं जिला प्रमुख भागीरथ चौधरी ने 2 किलोमीटर रोड बनाने की घोषणा की तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी ने राज्यसभा सदस्य गहलोत के मार्फत ₹5 लाख रुपए से सामुदायिक भवन बनाने की। नागौर| नया दरवाजा प्रतापसागर स्थित बड़लेश्वर महादेव मंदिर में गुरुवार को भगवान महादेव का अभिषेक किया गया। इस अवसर पर मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ रही। बड़लेश्वर महादेव मंदिर में पंचतत्वों से भगवान का अभिषेक किया गया। शाम को आरती की गई। भगवान महादेव के महामृत्युंजय मंत्र के साथ ओम नम शिवाय के जयकारों के साथ दर्शनार्थियों की भीड़ लगी रही। दंपतियों ने जोड़े से आकर पूजा अर्चना कर दर्शन किए। महादेव के अभिषेक के दर्शन के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। यहां महिला दर्शनार्थियों की संख्या अधिक रही। महादेव के दर्शन के लिए शिव भक्त पहुंचे। भगवान भोलेनाथ को पुष्प मालाओं से सुसज्जित कर शृंगार किया गया।

कुचेरा| बुटाटी में चारभुजा रोड पर आयोजित भागवत कथा में प्रवक्ता करुणा मूर्ति धाम के त्यागी संत हेतम राम महाराज ने कहा कि संसार का विस्मरण और परमात्मा का सतत स्मरण ही मुक्ति है। कृष्ण कथा बालक, सन्यासी, युवा, ज्ञानी सब को आनंद देती हैं, क्योंकि इसमें सभी रसों का समन्वय है। कृष्ण स्वयं ही रस रूप है। कृष्ण सभी को दसवां प्रेम रस देते हैं। सात्विक राजसिक, तामसिक चाह किसी प्रकार का जीव हो। कृष्ण सभी प्रकार के जीवों को आकर्षित कर दिव्य प्रेम रस में सराबोर कर देते हैं। संगीतकारों ने बांसुरी बजावे चाले टेढ़ी मेढ़ी चाल है, एसो री यशोदा मैया तेरो नंद लाल है... यशोदा मां के हुयो लाल बधाई सारे भक्तों ने... भजनों की प्रस्तुतियां दी। कृष्ण जन्मोत्सव पर त्यागी संत ने कहा कि संसार की नजरों में तुम अच्छे रहते हो पर परमात्मा की नजरों से गिर मत जाना। क्योंकि एक दिन मुंह परमात्मा को भी दिखाना है। जिस गाय को हम रोटी देते हैं वो गाय सुबह शाम हमारे घर आती है और जिन परमात्मा ने हम को रोटी, कपड़ा, धन वैभव सब कुछ दिया। उस परमात्मा के घर जाना हम जरूरी नहीं समझते हैं। फिर तो हम से गाय अच्छी है। हम झूठी घोषणा की आस्था रखते हैं जबकि कृष्ण कथा में आस्था व विश्वास नहीं है। कैसे कल्याण होगा। त्यागी संत नेमीराम महाराज ने आशीर्वाद देते हुए कहा कि संतो की सत्संग की बातें हृदय में धारण करनी चाहिए। जिससे जीवन सफल बनने के साथ साथ कल्याण होगा। कथा आयोजन समिति के शैलू कंवर, शक्ति सिंह ने बताया कि कथा की पूर्णाहुति 28 नवम्बर को होगी।

खबरें और भी हैं...