पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जुगाड़ से डबल किए ऑक्सीजन सपोर्ट बेड:मरीज ज्यादा थे, मेलनर्स कमलेश ने स्टेथेस्कोप के पाइप से एक सिलेंडर से की 2 मरीजों को सप्लाई; बोले- लोगों का जीवन बचाना मेरा फर्ज

नागौर4 महीने पहले
जुगाड़ तकनीक से एक सिलेंडर से दो बेड पर ऑक्सीजन सप्लाई करते कमलेश।

कहीं इलाज तो कहीं ऑक्सीजन के लिए हाहाकार, बीच-बीच में आने वाली मौत की खबरें, श्मशान पर चिताओं की लाइन के बीच हर कोई लाचारी महसूस कर रहा है। पूरे प्रदेश में ऑक्सीजन सिलेंडर के अलावा सप्लाई रेगुलेटर की कमी है, जिसका असर जिले के मकराना में भी पड़ा, लेकिन यहां के मेल नर्स कमलेश मीणा ने जुगाड़ तकनीक से स्टेथोस्कोप का उपयोग कर एक सिलेंडर से दो मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई करते हुए लोगों की जान बचाने में जुटे हुए हैं। इतना ही नहीं उनके इस जुगाड़ के चलते अस्पताल में ऑक्सीजन सपोर्ट बेड की संख्या भी दुगुनी हो गई है।

10 ऑक्सीजन बेड की ही थी व्यवस्था, मरीज बढे तो हुई समस्या
मकराना CHC में ऑक्सीजन सिलेंडर तो उपलब्ध है परंतु उनके रेगुलेटर नहीं होने से केवल 10 ऑक्सीजन बेड की ही व्यवस्था है, लेकिन गंभीर हालत में मरीजों का लगातार आना जारी था। चिकित्सा प्रभारी डॉ. फहमीदा, डॉक्टर प्रदीप शर्मा सहित अन्य स्टॉफ उन्हें भर्ती करने को लेकर पशोपेश में पड़ गए।

वहीं मरीज व परिजनों का दुख भी उनसे देखा नहीं जा रहा था। ऐसे में अस्पताल के मेल नर्स कमलेश मीणा ने तुरंत जुगाड़ प्रक्रिया लगाई एवं प्रभारी को मरीजों की जान बचाने के लिए सुझाव देते हुए प्रबंधन से इसकी इजाजत मांगी।
जुगाड़ से स्टेथेस्कोप के सिंगल पाइप को सिलेंडर से जोड़ दो मरीजों को दी ऑक्सीजन सप्लाई
अस्पताल प्रबंधन से स्वीकृति मिलने पर कमलेश मीणा ने एक पुराना स्टेथोस्कोप लिया और उसके सिंगल पाइप को ऑक्सीजन रेगुलेटर एवं कान में लगाने के पाइप के दोनों सिरों पर दो ऑक्सीजन सप्लाई पाइप जोड़ दिए।

इससे एक ही रेगुलेटर के माध्यम से दो मरीजों तक सुगमता से ऑक्सीजन पहुंचने लग गई। जुगाड़ सफल होने पर मेल नर्स कमलेश मीणा ने छह स्टेथोस्कोप और लगाए जिससे 7 ऑक्सीजन सिलेंडर से 14 मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई कर दी गई। अभी भी मरीजों की संख्या ज्यादा होने से ये जुगाड़ सप्लाई चल रही है।
क्षमता हुई दुगुनी और बच रही है मरीजों की जान
ऐसे में 10 के विपरीत 17 बैड पर ऑक्सीजन मिली एवं क्षमता के विपरीत सात अतिरिक्त बैड पर ऑक्सीजन प्राप्त करने वाले गंभीर मरीजों की जान बच गई। इस सफल जुगाड़ी प्रयोग पर सीएचसी प्रभारी फहमीदा व अन्य डॉक्टर्स ने मेल नर्स कमलेश मीणा की हौसला अफजाई करते हुए उसके उत्साहवर्धन में तालियां बजाई। अधिकांश स्टॉफ ने उसके फोटो अपने स्टेट्स व फेसबुक आईडी पर भी लगाए।

कंटेंट : प्रकाश प्रजापत (मकराना)