JLN अस्पताल पहुंचे बेनीवाल ने पीएमओ को फटकारा:नागौर सांसद ने कहा- भगवान के लिए अब झूठ बोलने की बजाय मिल-जुलकर मरीजों के लिए काम करो, नहीं तो कोई माफ नहीं करेगा

नागौर6 महीने पहले
अस्पताल में बेनीवाल को अपनी पीड़ा बताती महिला।

नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल गुरुवार दोपहर अचानक नागौर JLN हॉस्पिटल का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां उन्होंने अव्यवस्थाएं देखकर सीएमएचओ और पीएमओ को फटकार लगाते हुए कहा कि भगवान के लिए अब झूठ बोलने की बजाय मिल-जुलकर मरीजों के लिए काम करो। नहीं तो आपको कोई माफ नहीं करेगा। सांसद ने कहा कि उन्होंने पहले भी अस्पताल के लिए बजट दिया है। कमी हो रही है तो भामाशाहों से व्यवस्था करवाएंगे। मगर कोई हमें बताए तब पता चले कि कहां समस्या आ रही है।

ऑक्सीजन का प्रेशर कम

इसी दौरान एक महिला ​​​​​​आई और बोली कि मेरी बहन का ऑक्सीजन लेवल कम है। उसे वेटिलेंटर की जरूरत है, लेकिन PMO कह रहे हैं कि यहां पर ऑक्सीजन का प्रेशर कम है। आप मरीज को जोधपुर ले जाओ। इस पर सांसद ने PMO शंकरलाल से कहा कि जब आप वेटिलेंटर काम में ही नहीं ले रहे हो तो फिर मैंने इसके लिए पैसे क्यों दिए?

अधिकारियों की लापरवाही कितनी है यह जानने के लिए निरीक्षण के 4 घंटे बाद दैनिक भास्कर ने मरीज के परिजन को फोन करके पूछा कि आपको वेंटिलेटर कि सुविधा मिली या नहीं तो जवाब मिला, अब तक कोई सुविधा नहीं दी गई है।

बरामदे में लेटे थे मरीज

इस दौरान अस्पताल के बरामदों में ही मरीज सो रहे थे। परिजनों के हाथों में ड्रीप थमाकर खड़ा किया हुआ था। मरीजों से बात की तो पता चला कि एडमिट नहीं कर रहे हैं। इस पर मेडिकल स्टाफ ने कहा कि यह तो अभी आए ही हैं। जबकि हकीकत में वो मरीज 3 घंटे पहले हॉस्पिटल आ गए थे।

निरीक्षण के बाद सांसद हनुमान बेनीवाल ने पीएमओ, सीएमएचओ व अन्य जेएलएन स्टाफ की मीटिंग ली तथा व्यवस्था सुधार के निर्देश दिए। इस दौरान मरीज सीमा का परिजन आया और रोने लगा कि साहब मरीज गंभीर है, यहां व्यवस्था नहीं है। जल्दी बीकानेर या जोधपुर रेफर कर दो। इस पर सांसद ने तुरंत मीटिंग को रोककर मरीज की सुध लेने के लिए कहा।

व्यवस्थाएं सुधारने के निर्देश
सांसद बेनीवाल ने निरीक्षण के बाद सभी अधिकारियों की बैठक लेते हुए कहा कि जिले में सीएचसी में भी मरीजों को भर्ती करने के लिए सुविधाएं बढ़ाओ। ताकि जेएलएन में भार नहीं बढ़े। सारे डॉक्टर्स मिलकर आराम से सेवाएं दे सकें। वेटिलेंटर दे दिए लेकिन इंस्टाल नहीं किए और न ही कोई चलाने वाला है। बच्चे तो चलाएंगे नहीं। यह सीएमएचओ और पीएमओ ही करेंगे।

स्टाफ रखो, तब सुधरेगी स्थिति

इस दौरान वार्ड ब्वॉय लगाने के लिए भी सांसद ने कहा कि आप लड़कों को 5 हजार रुपये की बजाय 20 हजार रुपये, सफाई कर्मियों को 15000 व नर्सिंगकर्मी लगाकर 30 हजार रुपये महीने के हिसाब से देकर स्टाफ बढ़ाओ। नर्सिंगकर्मी बहुत बैठे हैं, उनसे सेवाएं लो तभी सिस्टम सुधरेगा। सांसद ने कहा कि सबसे बड़ी समस्या ऑक्सीजन की आ रही है। जो व्यवस्था करनी होगी।

खबरें और भी हैं...