महिलाओं की लगाता था बोली:‘बुली बाई’ एप का मास्टर माइंड रोटू का नीरज

नागौर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

देश के चर्चित व विवादास्पद ‘बुली बाई’ एप मामले में असम के जोरहाट से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया है। मामले में मास्टर माइंड नागौर के रोटू गांव निवासी 21 वर्षीय नीरज बिश्नोई के रूप में पहचान हुई, जिसे दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सामने आया है कि नीरज ने ही बुली बाई एप डवपल किया था। जो पैसे से इंजीनियरिंग स्टूडेंट है। पुलिस की जांच में यह भी सामने आया कि नीरज इस एप के जरिए महिलाओं की ऑनलाइन बोली लगवाता था। वहीं कोर्ट ने पुलिस को इस मामले में नीरज के ठिकानों की तलाशी लेने की परमिशन भी दे दी है। अब दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल जांच के लिए नागौर भी आ सकती है। यह भी सामने आया कि नीरज जन्म के बाद से ही परिवार सहित असम के जोरहाट में रह रहा था। अभी हाल ही में नवंबर महीने में अपने परिवार में किसी शादी में शामिल होने राजस्थान भी आया था। इधर, नीरज की गिरफ्तारी से पहले मुंबई पुलिस ने दावा किया था कि उत्तराखंड के शहीद उधम सिंह नगर से गिरफ्तार की गई श्वेता सिंह इस मामले की मुख्य आरोपी है, मगर दिल्ली पुलिस का मानना है कि श्वेता सिंह और बाकी दो आरोपी विशाल झा और मयंक रावल वास्तव तो नीरज बिश्नोई के इशारे पर काम कर रहे थे। यह प्रकरण पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ था। जिसे लेकर काफी विवाद भी हुआ।

नीरज के पिता असम में एक दुकान चलाते हैं। पिता ने बताया कि उसके पास दिन भर अनजान नंबरों से फोन आया करते थे। पूरे दिन वह कंप्यूटर में घुसा रहता था और देर रात तक काम करता था। कुछ राजनीतिक पार्टी के लोग भी इससे मिलने आते थे, जिन्हें वो नहीं जानते।

नीरज दो बहन के बाद सबसे छोटा है। साल 2020 में उसने भोपाल में एडमिशन लिया था और लॉकडाउन के बाद वह घर चला आया था। नीरज वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी भोपाल में बी टेक स्टूडेंट था। मामला सामने आने के बाद यूनिवर्सिटी मैंनेजमेंट ने नीरज को सस्पेंड कर दिया है। बुल्ली बाई एप मामले में गिरफ्तार नागौर के नीरज पुलिस की पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। आरोपी इंजीनियर स्टूडेंट ट्विटर पर मुंबई पुलिस को गालियां देकर चुनौती देता रहा। वो मुंबई पुलिस को स्लम बाई पुलिस कहकर बुलाता था। मास्टर माइंड नीरज ने @giyu नाम से ट्वीट कर खुद को एप का मास्टर माइंड बताते हुए दावा किया था कि ये एप उसने बनाया है। ट्वीट कर बताया था कि मुंबई पुलिस ने गलत लोगों को पकड़ लिया है। श्वेता और विशाल का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है।

दिल्ली की एक महिला पत्रकार ने हाल ही में दिल्ली पुलिस में एक शिकायत दर्ज कराई थी कि कुछ लोगों ने गिटहब प्लेटफार्म पर बनाए गए बुली बाई एप पर उसकी तस्वीर पोस्ट कर उस पर आपत्तिजनक और अश्लील बातें लिखी है। इस पर महिलाओं को निशाना बनाकर उनका अपमान किया गया है। इस एप पर अनेक महिलाओं की तस्वीरें हैं और इनमें पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, मशहूर शख्सियतें हैं। इस मामले का खुलासा एक जनवरी को हुआ और इस पर काफी अश्लील बातें लिखी गई हैं। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर से बुली बाई एप के बारे में जानकारी जुटानी शुरू की थी।

खबरें और भी हैं...