कार्रवाई:खदानों से ओवरलोड निकले 11 हजार डंपर संचालक डीटीओ का नहीं चुका रहे 200 करोड़ रु. का जुर्माना

नागौर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

खान विभाग से जारी ई-रवन्ना से प्राप्त सूचना के आधार पर ओवरलोड पाए गए 11 हजार वाहनों पर जिला परिवहन विभाग 200 करोड़ से अधिक का जुर्माना लगा चुका है। इस राशि की वसूली के लिए परिवहन विभाग ने ऐसे वाहनों को ब्लेक लिस्ट करना शुरू कर दिया है।

इसके चलते ऐसे वाहन संचालक कोर्ट पहुंच रहे हैं, जहां से उनको मदद तो मिल रही है, लेकिन विभाग का जुर्माना वसूल नहीं हो रहा है। कुछ ऐसी ही स्थिति बकाया कर वाले वाहनों की है। जिले में इनकी संख्या 1600 है, जिन पर विभाग का 5 करोड़ का टैक्स है।

इस राशि को भी प्राप्त करने के लिए परिवहन एवं सड़क सुरक्षा विभाग लंबे समय से प्रयासरत है, लेकिन वाहन स्वामियों के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। जुर्माना एवं कर राशि लाखों से करोड़ों तक पहुंच चुकी है।

ब्लैक लिस्ट करने पर पहुंच रहे कोर्ट, 16 हजार वाहनों पर 5 करोड़ कर बकाया
जिला परिवहन अधिकारी सुप्रिया विश्नोई के अनुसार ई-रवन्ना से 11 हजार वाहनों के ओवरलोड मिलने पर ऐसे वाहनों पर 200 करोड़ से अधिक का जुर्माना है। इनमें सैकड़ों ऐसे भी वाहन हैं जिन्होंने एक से अधिक बार फेरे किए और वे हमेशा ओवर लोड थे।

अब ऐसे वाहनों पर बतौर जुर्माना करोड़ों रुपए पहुंच चुका है, जिसको चुकाना अब वाहन स्वामियों के लिए भी मुश्किल है। अब ऐसे वाहन स्वामियों से वसूली के लिए परिवहन विभाग इन वाहनों को ब्लेक लिस्ट कर रहा है। हालांकि अब अब ऐसे वाहन स्वामियों को विभाग एमनेस्टी ईरवन्ना योजना के तहत राहत दी है।

एमनेस्टी में जुर्माना बहुत कम देना है। एमनेस्टी में 11 हजार वाहनों पर औसत 11 करोड़ ही जुर्माना होता है। अगर इस योजना में राशि जमा नहीं होती है तो राशि 200 करोड़ से अधिक होगी। 1600 वाहनों पर 5 करोड़ टैक्स की बाकीयात है। इनमें से 150 वाहनों की तो आरसी को भी निरस्त करने की जिला परिवहन विभाग ने तैयारी कर ली है। जो भी सूचना है इसी माह देनी होगी।

वाहन स्वामियों को अभी राहत दी जा रही है
ओवरलोड वाहनों पर लगे जुर्माने को जमा कराने के लिए एमनेस्टी-ई रवन्ना तथा विभिन्न वाहनों पर बकाया राशि में छूट के लिए टैक्स एमनेस्टी योजना चला रखी है, 30 सितंबर तक अगर जुर्माना एवं कर जमा होता है तो इससे वाहन स्वामी को राहत मिल सकती है।
सुप्रिया विश्नोई, जिला परिवहन विभाग, नागौर

खबरें और भी हैं...