साल में 300 दिन सोता है यह आदमी, VIDEO:खाने से लेकर नहाने तक सब कुछ नींद में, जगाने के लिए लगते घंटों; भास्कर टीम से बात करने के लिए भी 2 मिनट ही जागे, लोग कहते कुंभकरण

नागौरएक वर्ष पहलेलेखक: मनीष व्यास

राजस्थान के नागौर जिले में एक शख्स ऐसा भी है, जो साल में 300 दिन तक सोता है। उसका खाने से लेकर नहाना सब कुछ नींद में ही होता है। सुनने में अजीब लगता है, लेकिन जिले के भादवा गांव का रहने वाला 42 साल का पुरखाराम अजीब बीमारी से ग्रसित है। लोग उसे कुंभकरण कहते हैं।

जब भास्कर टीम को पुरखाराम के बारे में जानकारी मिली तो टीम 125 किलोमीटर का सफर तय कर उसके घर तक पहुंची। घर गए तो पुरखाराम नींद में थे। जगाने के लिए घर वालों ने तीन घंटे तक मशक्कत की और वे जागे भी तो महज 2 मिनट के लिए फिर सो गए। इसके बाद टीम तीन घंटे और रुकी, लेकिन कोई जगा नहीं सका।

राजस्थान के नागौर जिले में भादवा गांव स्थित पुरखाराम का घर।
राजस्थान के नागौर जिले में भादवा गांव स्थित पुरखाराम का घर।

पुरखाराम को एक्सिस हायपरसोम्निया नाम की बीमारी है। घर वालों ने बताया कि एक बार सोने के बाद यह 25 दिनों तक नहीं जागते हैं। इसकी शुरुआत 23 साल पहले हुई थी। शुरुआती दौर में 5 से 7 दिनों के लिए सोते थे, लेकिन उठाने में भी काफी मशक्कत करनी पड़ती थी। इसे परेशान घरवाले डॉक्टर के पास ले गए इलाज भी किया, लेकिन बीमारी पकड़ में नहीं आई। धीरे-धीरे पुरखाराम के सोने का समय बढ़ता गया और अब 1 महीने में 25 दिनों तक यह सोते रहते हैं। टीम ने जब एक्सपर्ट से बात की तो पता चला पुरखाराम को एक्सिस हायरसोम्निया नाम की बीमारी है। इस बीमारी में व्यक्ति नींद से ग्रसित रहता है।

दैनिक भास्कर रिपोर्टर के पास खाट पर सो रहे पुरखाराम।
दैनिक भास्कर रिपोर्टर के पास खाट पर सो रहे पुरखाराम।

तीन घंटे की मशक्कत के बाद जागे, वो भी 2 मिनट के लिए
पुरखाराम के यहां टीम पहुंची तो उनकी पत्नी लिछमी देवी को उनसे बात करने की अपील की, लेकिन यह काम मुश्किलों भरा था। 3 घंटे की मशक्कत के बाद पुरखाराम उठा और वह भी 2 मिनट के लिए। उठाकर कुर्सी पर बैठाया लेकिन वहां भी बैठे-बैठे सो गए। ज्यादा नींद आने लगी तो पलंग पर सुला दिया। इस दौरान थोड़ी देर की बातचीत में उन्होंने बताया कि उन्हें दूसरी कोई दिक्कत नहीं है, बस नींद ही नींद आती है। वो खुद जागना चाहते हैं पर इसमें उनका शरीर उनका साथ नहीं दे रहा है। उन्होंने बताया कि इलाज कराकर में भी थक गया हूं, अब सब कुछ राम भरोसे हैं।

पुरखाराम की पत्नी लिछमी देवी।
पुरखाराम की पत्नी लिछमी देवी।

दुकान वह भी बंद
पुरखाराम की पत्नी लिछमी देवी ने बताया कि गांव में दुकान है, लेकिन वह भी अब बंद है। बूढ़ी मां ने बताया कि अभी तो खेतीबाड़ी से गुजारा हो रहा है, लेकिन एक पोते और 2 पोतियों की पढ़ाई और उनके भविष्य को लेकर परेशान हूं।

सोने के दौरान ऐसा होता है रुटीन
पुरखाराम के सोने के बाद उन्हें उठाना नामुमकिन हो जाता है। उन्हें नींद में ही उसके परिजन खाना खिलाते हैं। जब बाथरूम जाना होता है तो नींद में ही पुरखाराम बेचैन हो जाता है, उन्हें उठाकर परिजन बाथरूम ले जाते हैं जहां उसे पकड़कर टॉयलेट सीट पर बिठाया जाता है। अभी तक पुरखाराम की नींद का कोई इलाज नहीं मिला है, लेकिन पुरखाराम की माता कंवरी देवी और पत्नी लिछमी देवी को उम्मीद है कि जल्द ही वो ठीक हो जाएंगे और पहले की तरह अपनी जिंदगी जिएंगे।

डॉक्टर अरुण झांझडिया।
डॉक्टर अरुण झांझडिया।

एक्सपर्ट व्यू: एक्सिस हायपरसोम्निया के कारण आती है कई-कई दिनों तक गहरी नींद: डॉ. अरुण झांझड़िया
जब इस बारे में न्यूक्लियोमेडीसीन एमडी और जयपुर के डॉक्टर अरुण झांझडिया से बात की तो बताया कि हायपरसोम्निया दो तरह के होते हैं। इस केस में ये सामने आया है कि पुरखाराम लगातार हायपरसोम्निया से पीड़ित होने के बाद सेकंडरी हायपरसोम्निया यानी अब एक्सिस हायपरसोम्निया का शिकार हो गया है। इसके चलते उन्हें लगातार कई -कई दिनों तक नींद आ रही है। उनका कहना है कि ऐसा नहीं है कि वो अब कभी ठीक नहीं होंगे, वो ठीक हो सकते हैं। मेडिकल साइंस में कम्प्लीट डाइग्नोसिस के बाद रेगुलर व प्रॉपर ट्रीटमेंट के साथ इसका इलाज संभव है।

खबरें और भी हैं...