पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मनरेगा में नागौर का राजस्थान में पहला स्थान:एक साल में 1 लाख से ज्यादा श्रमिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार मिला

नागौर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनरेगा की राष्ट्रीय स्तर की रैकिंग में नागौर जिले ने देश भर में तीसरा स्थान हासिल किया है। - Dainik Bhaskar
मनरेगा की राष्ट्रीय स्तर की रैकिंग में नागौर जिले ने देश भर में तीसरा स्थान हासिल किया है।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियन (मनरेगा) में नागौर जिला प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहा है। मनरेगा के तहत गांव-ढाणी में विभिन्न तरह के विकास कार्य करवाकर ग्रामीणों को जहां 100 दिन का रोजगार मुहैया करवाया गया है। दिलचस्प बात यह है कि मनरेगा योजना लागू होने के बाद से एक वित्तीय वर्ष में एक लाख से अधिक श्रमिक परिवारों को 100 दिन का रोजगार मुहैया करवाने का रिकाॅर्ड नागौर जिले के नाम रहा है।

कलेक्टर डाॅ. जितेन्द्र कुमार सोनी व मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद जवाहर चौधरी की टीम ने साल 2020-21 में 1 लाख 17 हजार 879 परिवारों को 100 कार्य दिवस का रोजगार मुहैया करवाते हुए राज्य में पहला स्थान हासिल किया है। इन्हीं विभिन्न पैरामीटर्स के आंकड़ों के आधार पर मनरेगा की राष्ट्रीय स्तर की रैकिंग में नागौर जिले ने देश भर में तीसरा स्थान हासिल किया है। ध्यान देने वाली बात यह है कि जिले की एक भी ग्राम पंचायत ऐसी नहीं है कि जिसमें मनरेगा श्रमिक परिवारों को सौ कार्य दिवस का रोजगार प्रदान नहीं किया गया हो।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद और अतिरिक्त जिला कार्यक्रम समन्वयक, EGS जवाहर चौधरी ने बताया कि मनरेगा में पंजीकृत श्रमिकों के आधार कार्ड की सीडिंग की गई है, जिसमें भी राज्य भर में प्रथम स्थान हासिल किया गया है। इसी प्रकार मानव दिवस सृजन में भी नागौर जिले ने राज्य में दूसरा स्थान हासिल किया है। जिले ने मनरेगा में वर्ष 2020-21 के दौरान 293.95 लाख मानव दिवस सृजित किए गए है। वहीं दूसरी ओर मनरेगा में महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए महिला मेट का नियोजन करते हुए नागौर जिले ने राज्य में दूसरा स्थान हासिल किया है।

दो साल में सौ कार्य दिवस के लाभान्वितों का आंकड़ा 4 गुना बढ़ा

महात्मा गांधी नरेगा योजनान्तर्गत 100 कार्य दिवस पूर्ण करने वाले परिवारों की संख्या में चार गुना तक इजाफा किया है। मनरेगा के तहत वर्ष 2018-19 में 100 कार्य दिवस पूर्ण करने वाले परिवारों की संख्या जहां 28 हजार 491 थीं, जो वर्ष 2019-20 में 52 हजार 740 तक पहुंचा। इसी प्रकार जिला स्तर से माॅनिटरिंग व मार्गदर्शन के अनुसार ब्लाॅक स्तरीय अधिकारियों के नियमित निरीक्षण के बल पर 100 कार्यदिवस का लाभ लेने वाले श्रमिक परिवारों का आंकड़ा 1 लाख 17 हजार 879 तक पहुंच गया।

हर मंगलवार को होती है साप्ताहिक समीक्षा

महात्मा गांधी नरेगा के निर्धारित पैरामीटर्स में बेहत्तर काम होने का कारण इसकी नियमित माॅनिटरिंग है। कलेक्टर डाॅ. जितेन्द्र कुमार सोनी इसे लेकर कई महीनों से हर सप्ताह के मंगलवार की शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विकास अधिकारियों से ऑनलाइन रिपोर्ट लेते हुए इसकी समीक्षा करते हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

और पढ़ें