• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • Refused To Give Discount To The Customer On The Purchase Of The Bike; Now Orders To Pay The Discount Amount Of Rs 9 Thousand 428 With 9 Percent Interest; 5 Thousand Rupees Will Also Have To Be Compensated

डिस्काउंट नहीं दिया तो बाइक डीलर पर लगा जुर्माना:बाइक खरीदने पर ग्राहक को डिस्कॉउंट देने से मना किया था, अब 9428 रुपए का डिस्काउंट 9 प्रतिशत ब्याज सहित चुकाने के आदेश

नागौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक। - Dainik Bhaskar
डेमो पिक।

नागौर में कंज्यूमर कोर्ट ने एक ग्राहक को राहत दी है। कोर्ट ने मोटर व्हीकल डीलर फर्म को 9 हजार 428 रुपए की तय डिस्काउंट राशि 9 प्रतिशत ब्याज राशि के साथ ग्राहक को चुकाने के आदेश दिए है। साथ ही डीलर को इस दौरान कंज्यूमर को हुई असुविधा के लिए उसे 5 हजार रुपये क्षतिपूर्ति के अलग से देने होंगे। केस के मुताबिक डीलर ने बाइक बेचने के बाद कंज्यूमर को उस दिन की स्कीम में तय डिस्काउंट नहीं दिया था। इसके बाद मामला कंज्यूमर कोर्ट में पहुंचा।

श्री सांवरिया सेठ मार्बल प्राइवेट लिमिटेड बिदियाद के प्रोप्राइटर बृजबिहारी पुत्र पन्नालाल निवासी भींचर ने बताया कि उन्होंने हीरो मोटर्स कॉर्प लिमिटेड के डीलर स्विफ्ट मोटर्स मंगलाना रोड मकराना से 31 जुलाई 2017 को बाइक खरीदी थी। जिसका चैक से भुगतान भी कर दिया गया था। इस दिन स्कीम के हिसाब से डीलर को उसे कुल बिल में 9 हजार 428 रुपए का डिस्काउंट दिया जा था, लेकिन डीलर ने बाद में ये डिस्काउंट देने से इनकार कर बिल में जोड़ दिया था। उसे बताया कि ये बाद में आपके खाते में रिफंड हो जाएगा। इसके कई दिनों बाद भी जब डिस्काउंट राशि नहीं मिली तो डीलर को नोटिस भी दिए गए।

ये दिया फैसला
इसके बाद जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग में डॉक्टर श्यामसुंदर लाटा की अध्यक्षता में सदस्य बलबीर खुड़खुड़िया और सदस्य चन्द्रकला व्यास ने मामले कि सुनवाई करते हुए हीरो मोटर्स कॉर्प लिमिटेड के डीलर स्विफ्ट मोटर्स मंगलाना रोड मकराना को कंज्यूमर श्री सांवरिया सेठ मार्बल प्राइवेट लिमिटेड बिदियाद के प्रोप्राइटर बृजबिहारी को दो माह में 9 हजार 428 रुपए की तय डिस्काउंट राशि को वास्तविक भुगतान की तिथि तक 9 प्रतिशत ब्याज राशि के साथ चुकाने और दौरान कंज्यूमर को हुई असुविधा के लिए उसे 5 हजार रूपये क्षतिपूर्ति के अलग से देने के आदेश दिए है। अगर डीलर ये भुगतान दो माह में नहीं करता है तो उसके बाद भुगतान करने पर डीलर को सम्पूर्ण राशि पर भी 9 प्रतिशत ब्याज राशि चुकानी होगी।

खबरें और भी हैं...