पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जागरुकता अभियान:वैष्णव समाज के प्रतिनिधि बोले- कोरोना से बचने के लिए गाइड लाइन मानना जरूरी

नागौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मास्क को जीवनचर्या का हिस्सा बनाने का आह्वान, भास्कर के अभियान की सराहना की

कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या को लेकर सभी समाज चिंतित है। संक्रमण को रोकने के लिए समाज स्तर पर मास्क की अनिवार्यता के निर्णय कई समाजों ने दैनिक भास्कर के जागरूकता अभियान मास्क ही वैक्सीन के तहत लिए हैं। बुधवार को वैष्णव समाज के प्रतिनिधियों ने मास्क की अनिवार्यता लागू करने व समाज की ओर से गाइड लाइन की पालना कर कोरोना संक्रमण को देश से मिटाने का संकल्प लिया। समाज के रांकावत, रामावत, धन्नावंशी, परशु वंशी व कबीर पंथियों की ओर से लॉकडाउन के दौरान सामाजिक कार्यक्रमों को संक्षेप किया गया और बैठकों को कांफ्रेंस के जरिए किया गया।

मृत्यु व शादियों में परिवार के लाेगों के अलावा अनावश्यक भीड़ को बंद कर दिया गया। समाज की ओर से कोरोना काल के दौरान जरूरतमंदों को सहयता, सेनेटाइजर व मास्क वितरीत किए गए। समाजबंधु लाेगों से कोरोना महामारी की गंभीरता के लिए मास्क की अनिवार्यता सहित नियमों की पालना के लिए समझाइश कर रहे हैं। समाज प्रकृति व पर्यावरण संरक्षण के प्रति सचेत है। आगामी त्योहारों नियमों की पालना कर मनाए जाएंगे।

फिलहाल मास्क ही वैक्सीन, इसलिए घर से बाहर निकलते ही पहनना जरूरी

^महामारी का बचाव जागरूकता से ही किया जा सकता है। भास्कर का जागरूकता अभियान देश हित में है। समाज के युवाओं की ओर से जनसामान्य को जागरूक करने के प्रयास जारी है। बुजुर्गों, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। सामाजिक आयोजनों में न्यूनतम उपस्थिति सुनिश्चित करने, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करने एवं मास्क का उपयोग सभी के लिए जरूरी है।
-रामनिवास स्वामी, जिला अध्यक्ष पुजारी महासभा नागौर।

^समाचार पत्र के पढ़ने, आदान-प्रदान करने से करोना नहीं फैलता, दैनिक भास्कर की मुहिम सराहनीय है। वैष्णव समाज ने समाज के साथ-साथ स्वयं सेवी संस्थाओं में भी कोरोना काल में तन, मन, धन से सेवा की और लाेगाें से काेराेना महामारी से बचाव के लिए समझाइश की। अपनी जीवन चर्या को संयमित रखते हुए। इम्युनिटी पावर को मजबूत बनाए रखना जरूरी है। नियमित प्राणायाम करें। मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं।
-प्रो.भवानी शंकर रांकावत, सेवा निवृत्त प्रोफेसर, वैष्णव समाज नागौर।

^दैनिक भास्कर की मास्क ही वैक्सीन मुहिम सराहनीय है। कोरोना काल में जरूरत मंदों को खाद्य सामग्री वितरण,कोरोना योद्धाओं को चाय,बिस्किट पानी की सेवाएं दी गई। गायों और अन्य पशुओं के लिये घास, चारा एवं पक्षियों के लिये परिंडे एवं चुग्गापात्र लगाए गए। सामाजिक कार्यक्रम में सोशल दूरी बनाए रखने एवं जरूरत के मुताबिक ही व्यक्तियों को बुला कर कार्यक्रम करने पर जोर दिया गया। भाप का सेवन दिन में तीन बार आवश्यक करें।
- चतुरभुज रांकावत, रांकावत समाज, नागौर

^कोविड-19 वैश्विक महामारी पूरी मानवता के लिए एक खतरा है, इस पर नियंत्रण पाने के लिए सभी सामाजिक संगठनों एवं युवाओं को सामूहिक प्रयास करके इसकी चैन को तोड़कर इसे जड़ से समाप्त करने का प्रयास करना चाहिए। हमारे समाज के संगठन ने इस महामारी के प्रकोप के प्रारंभ से ही दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के सामाजिक बंधुओं एवं निकट संपर्क में आने वाले सभी समाज के व्यक्तियों को इस महामारी के दुष्प्रभाव के प्रति प्रेरित किया है। सामाजिक समारोह के आयोजनों में न्यूनतम उपस्थिति के सरकार के निर्देशों की पालना की गई।

राधेश्याम गोदारा, कोषाध्यक्ष श्री धन्ना वंशी स्वामी समाज समिति नागौर।

^जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं। कोरोना काल में सावधानी सबसे बड़ी दवा है। घर से बाहर विशेष जरूरत पर ही निकले। एक दूसरे से दूरी बनाए रखें। भीड़ का हिस्सा न बने, मास्क लगाए रखने के लिए जागरूक रहे । अपने आप को संयमित और सकारात्मक रखे।
-मदन रामावत, वैष्णव समाज नागौर।

^मौसमी बीमारी एलर्जी, हल्की खांसी, जुकाम का तुरंत इलाज और जांच होनी चाहिए। जिन वस्तुओं का उपयोग हम दैनिक जीवन में करते हैं उनको बार-बार सेनेटाइज्ड करना व हाथों को बार-बार साबुन से धोना आवश्यक है। मास्क पहनना भी जरूरी है।
-स्वामी लक्ष्मी नारायण दास वैष्णव चेनार, वैष्णव जिला सभा भवन छात्रावास सलाहकार

^अखबार कोरोना नहीं फैलाता, कोरोना से बचाव के उपाय बताता है। मास्क, सामाजिक दूरी, हाथ धोना ये तो मुख्य उपाय है ही इनके साथ साफ-सफाई, ताजा भोजन, गरम पानी पीना, योग करना और सकारात्मक विचारधारा रखना। ये भी कोरोना से बचने के तरीके हैं। हल्दी, दूध और काढ़े का सेवन करें।
-आशा वैष्णव,अध्यापिका, वैष्णव समाज नागौर।

खबरें और भी हैं...