• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • The Administration Is Observing The Camp With The Villages; CM Said That The Problems Of The Common Man Should Be Resolved Quickly

नागौर के गांवों में पहुंचे अशोक गहलोत:प्रशासन गांवों के संग शिविर की CM ने की समीक्षा, कहा- हम जनता के अधिकारों के ट्रस्टी

नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रियांबड़ी पहुंचे सीएम अशोक गहलोत। - Dainik Bhaskar
रियांबड़ी पहुंचे सीएम अशोक गहलोत।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शुक्रवार को नागौर जिले के रियांबड़ी में प्रशासन गांवों के संग अभियान के तहत आयोजित शिविर में पहुंचे। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा, विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और जिला प्रभारी हरीश चौधरी भी मौजूद रहे।

यहां गहलोत ने कहा कि सरकार का मकसद है कि गांवों की समस्या का हल गांवों में ही हो। यही तो महात्मा गांधी के स्वराज की परिकल्पना थी। इसी सोच के साथ ये अभियान चलाया गया। कैंप में माहौल बनाकर सभी कामों को निपटाया जाता है। इस प्रकार सद्भाव भी बनता है। प्रशासन की मंशा भी इन कैंप में ठीक रहती है। सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए आप भी जागरूक हों और अंतिम छोर तक पहुंचे। हम जनता के अधिकारों के ट्रस्टी हैं। हम जनता पर कोई अहसान नहीं कर रहे हैं। अधिकारी अच्छे से काम करें। निकम्मे को पनिशमेंट दें।

शिविर स्थल के लिए आते सीएम अशोक गहलोत।
शिविर स्थल के लिए आते सीएम अशोक गहलोत।

कांग्रेस राज में विकास की कमी नहीं
गहलोत ने कहा कि कांग्रेस राज में विकास की कोई कमी नहीं है। चिरंजीवी योजना में पूरे प्रदेश वासियों का 5 लाख तक का बीमा कर दिया गया है। कैशलैस बीमा। कोई बीमा कंपनी के नखरे भी नहीं। जनाधार कार्ड में फ्री इलाज होंगे। 5 दिन पहले ओर 15 दिन बाद तक का खर्चा शामिल है। इन बातों की जनता को जानकारी होना जरूरी है। ऐसा देश में सिर्फ राजस्थान में हुआ है। यूपीए राज में कानून पास कर काम का अधिकार नरेगा में दिया गया। शिक्षा का अधिकार भी दिया गया। दो रुपये किलो गेंहू और 3 रुपये किलो चावल से खाने का अधिकार दिया। हमने दवाइयां -इलाज सब फ्री कर दी। ये सभी क्रांतिकारी फैसले हैं।

5 हजार की आबादी में खुलेंगे इंग्लिश स्कूल
गहलोत ने कहा कि डोटासरा ने गांव-गांव में इंग्लिश स्कूल खोले। कम्प्यूटर राजीव गांधी का सपना था। आज हर हाथ में मोबाइल है। इंग्लिश भी बेहद जरूरी हो गई है। इसलिए इंग्लिश की पढ़ाई भी जरूरी है। ये महंगी भी थी। अब 5 हजार की आबादी में इंग्लिश स्कूल खुलेंगे।

कार्यक्रम में सभा को संबोधित करते CM गहलोत।
कार्यक्रम में सभा को संबोधित करते CM गहलोत।

केन्द्र सरकार ने जनता की अहमियत ख़त्म कर दी
गहलोत ने कहा कि किसान एक साल से धरना दे रहे हैं। 300-350 किसान मर गए। ऐसा देश में पहली बार हुआ है। लोकतंत्र में जनता माई बाप होती है। केंद्र सरकार ने इस माई-बाप की अहमियत ही खत्म कर रखी है। सरकार की जिम्मेदारी होती है। केंद्र सरकार ने अति कर दी। अब सर्दी आ रही है। आप कल्पना करो। किसान सड़कों पर बैठे है। गरीबी-अमीरी की खाई बढ़ा के रख दी।

केन्द्र सरकार पर साधा निशाना
गहलोत ने कहा कि मीडिया भारत सरकार के कब्जे में है। सब मोदी जी के दबाव में है। कुछ हिम्मत के साथ चल रहे हैं। ज्युडिशियरी दबाव में है। केंद्र सरकार की एजेंसियां पीछे पड़ी हुई हैं। 34 दिन तक डेगाना विधायक विजयपाल ओर इसके साथियों ने साथ दिया तो सरकार बची। मेरे परिवार पर छापे पटक दिए।

कार्यक्रम के दौरान PCC चीफ डोटासरा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और विधानसभा अध्यक्ष CP जोशी बाते करते हुए।
कार्यक्रम के दौरान PCC चीफ डोटासरा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और विधानसभा अध्यक्ष CP जोशी बाते करते हुए।

नागौर हमेशा अन्याय के खिलाफ मजबूती से खड़ा रहा-चौधरी
हरीश चौधरी ने कहा कि CM अशोक गहलोत ने तय किया है प्रशासन गांवों के संग अभियान से सरकार गांव तक पहुंचेगी। गहलोत ने सबसे पहले नागौर जिले की पंचायत को चुना। इसके लिए हम उनके आभारी हैं। गहलोत ने ग्रामीणों को उनकी जमीन पर स्वामित्व का हक दिया। नागौर की धरती से ही पंचायतीराज की शुरुआत हुई तो जागीरदारी प्रथा का अंत भी नागौर से हुआ।

PCC चीफ डोटासरा स्पीकर सीपी जोशी से बात करते हुए।
PCC चीफ डोटासरा स्पीकर सीपी जोशी से बात करते हुए।

नायाब अभियान है प्रशासन गांवो के संग
प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने कहा कि प्रशासन गांवों के संग नायाब अभियान है। ऐसा पूरे देश में कहीं नहीं। राजस्थान क्षेत्रफल के लिहाज से सबसे बड़ा प्रदेश है, इसलिए यहां 22 विभाग के अधिकारी गांव ढाणी तक पहुंचे हैं। इससे बेहतर कुछ नहीं। सरकारी योजनाओं का लाभ अंतिम छोर तक ऐसे ही पहुंचाया जा सकता है। ये ग्रामीण विकास में मील का पत्थर साबित होगा।

CM गहलोत ने पादूकलां दुष्कर्म-हत्या मामले में फैसला आने पर पुलिस को सराहा
गहलोत ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली है कि नागौर की मेड़ता स्थित पोक्सो कोर्ट ने मासूम से दुष्कर्म और हत्या के मामले में महज 30 दिन में फांसी की सजा सुनाई है। इस मामले में पुलिस ने 6 दिन में चार्जशीट पेश कर दी थी। ये सराहनीय है। सरकार ने सभी थानों में ये निर्देश दे रखे हैं कि हर एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। इससे अपराध के आंकड़े तो बढ़े हैं, पर न्याय भी सहज हुआ है।

हेलिकॉप्टर से पहुंचे नागौर
गहलोत शुक्रवार सुबह हेलिकॉप्टर से रवाना होकर दोपहर में चाडी स्थित मदेरणा निवास पर पूर्व मंत्री महीपाल मदेरणा को श्रद्धांजलि देने पहुंचे। वहां से नागौर जिले के भैरुन्दा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत निम्बोला बिश्वा में अस्थाई हेलीपैड पर पहुंचे। यहां निम्बोला बिश्वा में आयोजित किए जा रहे ‘प्रशासन गांवों के संग अभियान के शिविर में शामिल हुए।