अलवर गैंगरेप मामले में सांसद दीया ने सरकार को घेरा:बोली- रेप केपिटल बन गया वीरों और वीरांगनाओं का प्रदेश, मामले को दबाने के बजाय CBI जांच कराए

नागौर10 महीने पहले
राजसमंद सांसद दीया कुमारी। 

अलवर के तिजारा फाटक पुलिया पर लहुलूहान हालत में मिली मूकबधिर बच्ची के मामले में भाजपा की प्रदेश महामंत्री और राजसमंद सांसद दीया ने अलवर पुलिस पर बड़े सवाल खड़े करते हुए राज्य सरकार को घेरा है। सांसद दीया ने एक वीडियो मेसेज जारी कर बताया कि अलवर गैंगरेप और इसके अलावा भी प्रदेश में लगातार ऐसी घटनाएं हो रही है। इन घटनाओं को लेकर राजस्थान सरकार बिलकुल भी संवेदनशील और सीरियस नहीं है। इन लोगों को चैन से नींद कैसे आ रही है ? अभी तक दोषियों को पकड़ा नहीं गया है और न ही कोई ठोस कार्रवाई हुई है। गहलोत सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं है।

रेप कैपिटल बन गया है राजस्थान
इसके आगे वीडियो मैसेज में सांसद दीया कुमारी ने बताया कि राजस्थान वीरों की और वीरांगनाओं की धरती है लेकिन आज ये रेप कैपिटल बन गया है। ये बहुत दुःख और शर्म की बात है। मुझे खुद को शर्म आती है कि आज में एक ऐसे राजस्थान में जी रही हूं, जहां हमारी बहन बेटियां सुरक्षित नहीं है।

CM अशोक गहलोत को लिखा पत्र
CM अशोक गहलोत को लिखा पत्र

CM को पत्र लिखकर कहा - मामले को दबाने के हो रहे प्रयास, CBI जांच कराये सरकार
CM अशोक गहलोत को लिखे पत्र में राजसमंद सांसद दीया कुमारी ने लिखा कि 11 जनवरी को एक नाबालिग मूक बधिर बालिका के साथ दुष्कर्म की घटना घटित हुई और उस पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है और ना ही अपराधियों को पकड़ कर कोई सजा दी गई है। सांसद ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस संबंध में अलवर SP द्वारा यह बयान जारी किया गया कि नाबालिग बालिका के साथ कोई दुष्कर्म नहीं हुआ है। इस बयान से ऐसा प्रतीत होता है कि इस मामले को दबाया जाकर एक साधारण घटना का रूप दिया जा रहा है।

सांसद दीया कुमारी ने पत्र में कम गहलोत से कहा कि बालिका के साथ हुई इस घटना की निष्पक्ष जांच हो व उसे न्याय मिले इस के लिए इस प्रकरण की जांच केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) से कराया जाना आवश्यक है। जिसके लिए राज्य सरकार को केन्द्र सरकार से सीबीआई जांच की अनुशंषा की जानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...