• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • The Workers Were Gathered In The Village To Welcome The Cabinet Minister Hemaram Chaudhary, If They Did Not Reach, They Were Welcomed By Stopping On The Highway.

डेगाना MLA और पायलट गुट के कार्यकर्ताओं में बहस; VIDEO:कैबिनेट मंत्री चौधरी कार्यक्रम में नहीं पहुंचे तो उनकी कार रुकवाई, समर्थक देने लगे धमकियां

नागौर2 महीने पहले

राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद पायलट और गहलोत खेमा की गुटबाजी खुलकर सामने आ रही है। गुरुवार को नागौर जिले के डेगाना में हेमाराम चौधरी के कार्यक्रम के दौरान डेगाना MLA विजयपाल मिर्धा और डेगाना शहर के पूर्व ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सीता राम बिंदा में बहस हो गई। धीरे-धीरे मामला गरमा गया। बहस इतनी बढ़ी कि पुलिसकर्मियों को बीच में आना पड़ा। इसके बाद पूर्व ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सीताराम बिंदा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी, उनके साथ आए लांडनू विधायक मुकेश भाकर और परबतसर विधायक रामनिवास गावड़िया का स्वागत समारोह हुआ।

कैबिनेट मंत्री बने हेमाराम चौधरी डेगाना विधायक विजयपाल मिर्धा, लाडनू विधायक मुकेश भाकर और परबतसर विधायक रामनिवास गावड़िया के साथ डेगाना के रेणास गांव में शहीद जवान किशनाराम बाबल की प्रतिमा अनावरण समारोह में शिरकत करने पहुंचे थे। इस दौरान पायलट गुट से जुड़े डेगाना शहर के पूर्व ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सीताराम बिंदा के नेतृत्व में इड़वा गांव में पूर्व सांसद और पूर्व पीसीसी उपाध्यक्ष गोपाल सिंह शेखावत के घर के बाहर कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी का स्वागत समारोह रखा। हेमाराम चौधरी ईड़वा के कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। सैकड़ों कार्यकर्ता वहां इन्तजार करते ही रह गए। पूर्व ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सीताराम बिंदा ने आरोप लगाया कि हेमाराम चौधरी कार्यक्रम में आना चाहते थे। डेगाना MLA विजयपाल मिर्धा ने उन्हें नहीं आने दिया। इससे नाराज बिंदा अपने कार्यकर्ताओं के साथ हाईवे पर पहुंच गए और मंत्री के काफिले को रुकवा लिया। इस पर डेगाना MLA नाराज हो गए और दोनों के बीच बहस शुरू हो गई। यहां तक दोनों नेता एक-दूसरे को देख लेने तक की धमकी देने लगे। मामला बढ़ता देख वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने MLA मिर्धा और उनके समर्थकों को शांत कर गाड़ी में बैठाया।

विधायक विजयपाल मिर्धा ने बताया कि हेमाराम चौधरी का राणास गांव के अलावा अन्य जगह पर कार्यक्रम निर्धारित नहीं था। मुझे भी किसी अन्य कार्यक्रम में ले जाने की जानकारी नहीं थी। इसलिए हेमाराम को वहां जाने के लिए मना कर दिया था।

इनपुट : राकेश सियाक (डेगाना)