पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खौफ के साये में गांव:भेड़, बैराथल, तांतवास में अवैध खनन की शिकायत पर होते हैं हमले, पुलिस पहुंचती है पर कार्रवाई नहीं

नागौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भेड़ गांव के एक घर में पटि्टयां टूटने से दिया गया ईंटो का सहारा। - Dainik Bhaskar
भेड़ गांव के एक घर में पटि्टयां टूटने से दिया गया ईंटो का सहारा।
  • सरेआम धमकियां देकर डराते हैं खनन माफिया
  • खनन क्षेत्र की ढाणियों में पहुुंचा भास्कर; डर ऐसा कि लोग शिकायत भी नहीं कर पाते

खींवसर क्षेत्र में हो रहे खनन की जानकारी जुटाने भास्कर भेड़ व तांतवास गांव की उन ढाणियों तक पहुंचा जहां लोग डर-डर के जी रहे हैं। लोगों ने बताया कि वो खनन माफियाओं के खिलाफ बोलें तो उनकी जान को खतरा हो सकता है। सोशल मीडिया पर सरेआम धमकियां दी जा रही है।

वहीं, हालात ऐसे हैं कि खनन क्षेत्र के पांच किमी दायरे में खनन के दौरान किए जाने वाले विस्फोट व धड़कन से घरों की दीवारों व पटि्टयों में दरारें आ चुकी हैं। भेड़ गांव के धन्नाराम विश्नोई, मोहनराम, परसाराम, अन्नाराम, पूनमचंद सहित कई लोगों के घरों में जाकर देखा तो पटि्टयां टूटीं मिलीं।

वहीं, दीवारों व पानी के हौद में भी दरारें आई हुई थी। टांके में मात्र एक टैंकर पानी दो दिन ही टिक सकता है। यही स्थिति तांतवास गांव में है। यहां से गुजरने वाले अनजान लोगों की ये लोग पूरी रैकी करते हैं। रात भर बाइक व कैंपर से माफिया के लोग यहां से गुजरने वाले हर एक का पीछा करते हैं। भेड़ के अलावा निकट के गांव तांतवास में भी खनन जोरों पर चल रहा है। यहां पर भी गैंग की स्थिति भेड़ गांव जैसी ही है।

दो व्यक्तियों के साथ मारपीट के बाद भी दो दिन नहीं हुआ मामला दर्ज, पुलिस मौके पर भी नहीं गई
शिकायतकर्ता द्वारा लगातार प्रशासन व सरकार को शिकायत किए जाने के कारण उनके ही परिवार के दो लोगों पर 31 मई को हमला हुआ। पुलिस काे सूचना दी तो मौके पर ही नहीं आए। पुलिस ने उलटा पीड़ितों को ही शराबी बताकर मामला तक दर्ज नहीं किया। पांचौड़ी थानाधिकारी निस्सार मोहम्मद ने बताया कि जो रिपोर्ट देने आया वो शराबी था तथा उसके साथ किसी प्रकार की घटना नहीं हुई।

जबकि हकीकत ये है कि जेएलएन के बाद पीड़ित को जोधपुर रेफर करना पड़ा। पुलिस इस मामले में आरोपियों की शह देती नजर आई। इसके कुछ दिन बाद आरोपी आपस में लड़े, जिसकी सूचना पुलिस को दी तो पुलिस ने शिकायकर्ता को ही आकर कहा कि घर में रहें। ऐसे मामले आए दिन हो रहे हैं।

शिकायतकर्ता पर हमला, 17 दिन तक रहा भर्ती, 18 आरोपियों को नहीं पकड़ा शिकायतकर्ता परसाराम विश्नोई व पत्नी शारदा पर 6 माह पहले माइनिंग विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में हमला हुआ। लेकिन अधिकारी उनको बचाने की बजाय खुद भाग छूटे और शिकायकर्ता को तीन किमी तक दौड़ा-दौड़ा कर पीटा व गंभीर घायल कर दिया, जिस बाद उनको जोधपुर रेफर करना पड़ा।

इसमें दर्ज मामले में पुलिस ने अब तक 30 आरोपियों में से 12 को ही गिरफ्तार किया है। इस मामले की जांच अब मूंडवा सीओ कर रहे हैं। इसको लेकर खनन अधिकारी धीरज पंवार कुछ भी बताने से बच रहे हैं। भास्कर ने उनसे खनन पर बात करनी चाही तो वे टालमटोल करते रहे।

  • मकान क्षतिग्रस्त - भेड़ व तांतवास में विस्फोट से घरों की पट्टियां टूटीं, टांकों में दरारें

पांचौड़ी थाना क्षेत्र के तांतवास गांव में धड़ल्ले से खनन किया जा रहा है। इसको लेकर शिकायतें भी होती हैं मगर कार्रवाई नहीं होती है। यहां गौचर भूमि में खनन हो रहा है।

  • धमकियां - माफियाओं का गुंडा राज, बना रखी है गैंग, प्रशासन भी है मौन

खनन माफियाओं ने एक गैंग बना रखी है जिसको आर जे 21 नाम दिया गया है। इसमें 21 लोग शामिल हैं। अगर क्षेत्र में कोई इनके खिलाफ बोलता है तो यह उनको डराते-धमकाते हैं तथा हमला भी कर देते हैं। इसको लेकर सोशल मीडिया पर कई पोस्ट किए गए हैं जिनमें खुली धमकियां दी गई हैं। मगर प्रशासन द्वारा इन पर कोई कठोर कार्रवाईयां नहीं हो रही है। जिस कारण से क्षेत्र में लोगों में डर फैला हुआ है। पुलिस से लेकर प्रशासनिक अधिकारी सब मौन हैं। इसी प्रकार तांतवास की गोचर भूमि पर खसरा नंबर 454 में अवैध खनन लगातार जारी है। इसको लेकर शिकायतकर्ता भूराराम नायक को धमकियां दी जा रही है। भूराराम ने भास्कर को बताया कि उन्होंने 9 जून को पांचौड़ी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करवानी चाही मगर अब तक मामला दर्ज नहीं किया है। तांतवास में भी घरों की पटि्टयां टूट चुकी हैं तो दीवारें ध्वस्त होने की स्थिति में हैं लेकिन कार्रवाई केवल कागजी होती है।

कलेक्टर बोले- एसपी के साथ चर्चा कर जल्द कानूनी कार्रवाई करेंगे

क्षेत्र में हो रहे अवैध खनन को लेकर जिला कलेक्टर जितेंद्र कुमार सोनी ने कहा कि खनन को लेकर लगातार कार्रवाई की जा रही है। इसको लेकर मैं पुलिस अधीक्षक से चर्चा कर कानून व नियमों के अनुसार कार्रवाई करवाता हूं, गैंगवार को बंद करने के प्रयास जारी हैं। वहीं पुलिस अधीक्षक अभीजितसिंह इस मामले में कुछ भी बोलने से बचते रहे।

18 जून को प्रकाशित खबर।
18 जून को प्रकाशित खबर।
खबरें और भी हैं...