फुलेरा दूज आज:शादियां होगी, इस साल का दूसरा अबूझ सावा.. कई शुभ कार्य होंगे

नागौर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंदिरा कॉलोनी शिव मंदिर में फाग गीत गाती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
इंदिरा कॉलोनी शिव मंदिर में फाग गीत गाती महिलाएं।
  • बसंत पंचमी के बाद साल का दूसरा अबूझ सावा, इस बाद 20 अप्रेल तक नहीं है शुभ मुहुर्त

बसंत पंचमी के बाद साल का दूसरा अबूझ सावा फुलेरा दूज सोमवार को है। इस दिन शहर के साथ ही गांवों में भी शादियों की धूम मचेगी। नए प्रतिष्ठानों का उद्घाटन होगा। फाल्गुन माह शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर अबूझ सावों को लेकर शादी के कारोबार से जुड़े लोगों के उत्साह का माहौल है।

बाजारों में खरीदारों की भीड़ है। कपड़ों व आभूषण की बिक्री बढ़ गई है। कोविड-19 की गाइड लाइन के अनुसार अब भी 200 मेहमानों की बाध्यता जारी है। जिले में बड़ी संख्या में शादियां होगी। अबूझ सावे में किसी भी पंडित या ज्योतिष से मुहूर्त दिखवाने की जरूरत नहीं होती। विवाह के साथ ही अन्य कोई भी मांगलिक कार्य किया जा सकता है।

अबूझ मुहूर्त किसी भी प्रकार के हानिकारक प्रभाव और दोषों से रहित माना जाता है। स्वयं सिद्ध अबूझ मुहूर्त में चंद्रमा, लग्न, वार व अन्य कुयोग स्वत: नष्ट हो जाते हैं। फुलेरा दूज के दिन नामकरण, पूजन, हवन, कथा, मकान, वाहन, ज्वैलरी की खरीदारी भी मंगलकारी रहती है। फुलेरा दूज के बाद शुक्र अस्त होने के कारण 20 अप्रैल तक शादियां नहीं हो सकेगी।

मंगलाना. मंगलाना के चारभुजा मंदिर में रविवार को महिला मंडल की ओर से फागोत्सव का आयोजन हुआ। महिला मंडल ने बिना रंग के फागोत्सव फूलों व सूखी अबीर से मनाया। इस दौरान महिलाओं ने होली के गानों की प्रस्तुतियां दी। इस दौरान गणेशजी व श्याम बाबा के भजनों की सुंदर प्रस्तुतियां दी गई। इस दौरान भक्त महिलाओं ने भजन गाए।

चैत्र नवरात्र 13 अप्रैल से, इसके बाद शादी के शुभ दिन: चैत्र नवरात्र 13 अप्रैल से शुरू होंगे। नवरात्र शुरू होने के बाद ही मांगलिक कार्य और खरीद-फरोख्त की जा सकेगी। नवरात्र में नौ दिन खरीद-फरोख्त और शुभ कार्यों के लिए समृद्धिदायी रहेंगे। साथ ही मंदिरों में विशेष अनुष्ठान और पूजा-अर्चना की जाएगी। इसके बाद सूर्य के मेष राशि में प्रवेश हो जाने पर 22 अप्रैल से विवाह मुहूर्त भी प्रारंभ हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं...