• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • To Increase The Number Of Workers In MNREGA, The Government Will Give 1 Rupee Incentive Every Day, The Workers Said Even Children Are Not Happy With This

50 रु. प्रोत्साहन के लिए श्रमिक काे 50 दिन टास्क:मनरेगा में श्रमिकों की संख्या बढ़ाने सरकार रोज देगी 1 रुपया प्रोत्साहन राशि, मजदूर बोले- इतने से तो बच्चे भी खुश नहीं हाेते

नागौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

काेराेना काल के बाद प्रदेशभर में कम हाेते नरेगा श्रमिकों का आंकड़ा बढ़ाने के लिए सरकार अनूठी प्रोत्साहन याेजना लेकर आई है। याेजना यह है कि नरेगा से ज्यादा से ज्यादा श्रमिकों काे जाेड़ा जा सके इसके लिए प्रतिदिन की दिहाड़ी मजदूरी के साथ श्रमिकों काे एक रुपया प्रोत्साहन दिया जाएगा।

हालांकि शर्त यह प्रोत्साहन का रोज एक रुपया जीतने के लिए भी नरेगा श्रमिक काे एक दिन ही नहीं पूरे 50 दिन काम करना होगा। क्याेंकि याेजना में प्रोत्साहन की दाे स्टेप लागू की गई है। एक साल में एक व्यक्ति काे अधिकतम 100 दिन राेजगार का प्रावधान है। अब शर्त ये लागू की गई है कि प्रोत्साहन राशि प्रथम स्टेप में 50 व दूसरी स्टेप में 100 रुपए एक मुश्त दी जानी है। 50 रुपए प्रोत्साहन के लिए श्रमिक काे 50 दिन टास्क भरनी हाेगी। वहीं साल के 100 की टास्क पूरी करने पर 100 प्रोत्साहन दिया जाएगा। यदि किसी श्रमिक ने 100 दिन के बजाय 99 दिन ही पूरे किए हैं ताे उसे 50 रुपए ही मिलेंगे।

पंचायती राज विभाग की रिपाेर्ट में मई के बाद नरेगा श्रमिकों का आंकड़ा प्रदेशभर में करीब साढ़े पांच लाख कम हाे चुका है। मई में प्रदेश में नियोजित नरेगा श्रमिकों की संख्या 25 लाख के करीब रही है। 29 नवंबर काे आंकड़ा 1946329 ही रहा है। यानी पांच माह में ही श्रमिकों की संख्या पांच लाख से ज्यादा कम मानी जा रही है। श्रमिक बोले- लागू ही करनी थी तो स्थिति देखकर लागू करते, रुझान बढ़ता नरेगा श्रमिक श्रवणराम व अचला राम ने सरकार के द्वारा तय किया गया नरेगा मजदूरी के साथ प्रतिदिन एक रुपया बाेनस की राशि काे बच्चाें जैसा मजाक बताया है। एक दिन में एक रुपया देने से बच्चे भी खुश नहीं हाेते।

अगर प्रोत्साहन राशि लागू ही करनी थी तो स्थिति देखकर लागू करते, जिससे मजदूरों का नरेगा कार्य के प्रति रुझान बढ़ता। उन्होंने कहा कि लोगों को लाभ मिले ऐसा काम किया जाना चाहिए। नागौर में सबसे ज्यादा 1.67 लाख श्रमिक कर रहे कार्य, दूसरे स्थान पर बाड़मेर पंचायती राज विभाग की रिपाेर्ट के अनुसार नरेगा मजदूरी में नागौर साेमवार काे पहले स्थान पर रहा।

प्रथम स्थान पर नागौर में सबसे ज्यादा 1,67,653 श्रमिक काम पर आए। दूसरे स्थान पर बाड़मेर में 151807 श्रमिकों ने नरेगा स्थल पहुंच कर उपस्थिति दर्ज करवाई। तीसरा स्थान भीलवाड़ा 147049 श्रमिकों के साथ भीलवाड़ा का रहा। वहीं चूरू साेमवार काे 27717 श्रमिकों के साथ 28वें स्थान पर रहा। क्रम जिला लेबर 1. नागौर 167653 2. बाड़मेर 151807 3. भीलवाड़ा 147049 4. अजमेर 122167 5. डूंगरपुर 114384 6. जोधपुर 101467 7. झालावाड़ 90324 8. पाली 84777 9. बांसवाड़ा 71117 क्रम जिला लेबर 10. बीकानेर 70814 11. उदयपुर 60138 12. राजसमंद 53912 13. जयपुर 53627 14. जालौर 510 84 15. सिरोही 48109 16. जैसलमेर 45048 17. श्रीगंगानगर 44367 18. प्रतापगढ़ 40470

खबरें और भी हैं...