• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Nagaur
  • Took The Proposal Of A New Society With The Forged Signature Of Bhavanda Cooperative Society President, Police Did Not Register A Case Even After Complaint

भावंडा ग्राम सेवा सहकारी समिति का मामला:भावंडा सहकारी समिति अध्यक्ष के फर्जी हस्ताक्षर से नई समिति का प्रस्ताव लिया, शिकायत के बाद भी पुलिस ने दर्ज नहीं किया मामला

नागौर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुछ लोगों ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर समिति बनाने की कोशिश की, परिवाद दर्ज

फर्जी हस्ताक्षर और मुहर से नई ग्राम सेवा सहकारी समिति बनाने व कार्यकारिणी का गठन करने का मामला सामने आया है। इसको लेकर समिति के अध्यक्ष ने भावंडा थाने में शिकायत भी दी मगर पुलिस ने धोखाधड़ी व कूटरचित दस्तावेज तैयार करने को लेकर मामला दर्ज करने की बजाय केवल परिवाद दर्ज कर इतीश्री कर ली।

भावंडा ग्राम सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष मांगाराम ने थाने में शिकायत दी कि कुछ लोगों ने डेहरू पंचायत में फर्जी ग्राम सेवा सहकारी समिति बनाने और कार्यकारिणी गठन कर समिति के पदाधिकारी बनने के लिए उनके नाम का फर्जी हस्ताक्षर व मुहर लगाकर कूटरचित दस्तावेज तैयार कर लिए। जबकि वास्तव में ऐसे कोई प्रस्ताव नहीं लिए गए। वहीं मांगाराम ने भास्कर को बताया कि थाने में शिकायत देने के बाद मामला दर्ज करने की बजाय परिवाद दर्ज कर जांच शुरू की गई। जबकि आरोपियों के कृत्य के अनुसार उन पर धोखाधड़ी व कूटरचित दस्तावेज तैयार करने का मामला दर्ज होता है।

भास्कर संवाददाता | नागौर फर्जी हस्ताक्षर और मुहर से नई ग्राम सेवा सहकारी समिति बनाने व कार्यकारिणी का गठन करने का मामला सामने आया है। इसको लेकर समिति के अध्यक्ष ने भावंडा थाने में शिकायत भी दी मगर पुलिस ने धोखाधड़ी व कूटरचित दस्तावेज तैयार करने को लेकर मामला दर्ज करने की बजाय केवल परिवाद दर्ज कर इतीश्री कर ली।

भावंडा ग्राम सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष मांगाराम ने थाने में शिकायत दी कि कुछ लोगों ने डेहरू पंचायत में फर्जी ग्राम सेवा सहकारी समिति बनाने और कार्यकारिणी गठन कर समिति के पदाधिकारी बनने के लिए उनके नाम का फर्जी हस्ताक्षर व मुहर लगाकर कूटरचित दस्तावेज तैयार कर लिए। जबकि वास्तव में ऐसे कोई प्रस्ताव नहीं लिए गए। वहीं मांगाराम ने भास्कर को बताया कि थाने में शिकायत देने के बाद मामला दर्ज करने की बजाय परिवाद दर्ज कर जांच शुरू की गई। जबकि आरोपियों के कृत्य के अनुसार उन पर धोखाधड़ी व कूटरचित दस्तावेज तैयार करने का मामला दर्ज होता है।

सहकारी समिति के एमडी पीपी सिंह ने बताया कि जनसंख्या बढ़ने और ग्राम पंचायत बढ़ने से भावंडा से अलग कर लालाप या डेहरू को सहकारी समिति बनाया जाना है। मगर अब तक बनाया नहीं है। इसको लेकर रजिस्ट्रार कार्यालय में रजिस्ट्रेशन के बाद ही सूचीबद्ध किया जाएगा। गौरतलब है कि भावंडा, लालाप व डेहरू पंचायत की जनसंख्या करीब 22 हजार है। वहीं नए परिसीमन में लालाप को नई पंचायत बनाया गया था। पहले यह तीनों ही भावंडा ग्राम सेवा सहकारी समिति के अधीन थे। मगर अब डेहरू या लालाप में से एक ग्राम सेवा सहकारी समिति बनाई जानी है। मगर कुछ लोगों ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर रजिस्ट्रेशन के लिए डेहरू ग्राम सेवा सहकारी समिति तैयार कर ली। हालांकि जांच के बाद निरस्त कर दिया गया। शिकायत के बाद भी पुलिस दर्ज नहीं कर रही है मामला : अध्यक्ष भावंडा ग्राम सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष मांगाराम ने बताया कि उनके मिलते जुलते हस्ताक्षर व मुहर को फर्जी तरीके से काम में लेकर कुछ लोगों ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर समिति के कार्य से छेड़छाड़ की है। इस पर धोखाधड़ी व कूटरचित दस्तावेज तैयार करने का मामला दर्ज करने की बजाय पुलिस केवल परिवाद दर्ज कर इतीश्री कर रही है। अध्यक्ष ने इस मामले में आरोपित सभी व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

खबरें और भी हैं...