समस्या / व्यापारियों ने सीएम को बताई परेशानी

X

  • नागौर के व्यापारियों ने जयपुर पहुंच सीएम से की मुलाकात

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

नागौर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कृषक कल्याण शुल्क को लेकर खाद्य पदार्थ से जुड़े व्यापारियों की चिंता को समझते हुए निर्देश दिया कि ज्वार बाजरा मक्का जीरा ईसबगोल सहित जिन कृषि जिंसों पर मंडी शुल्क 50 पैसे प्रति सैकड़ा है उन पर कृषि शुल्क की वर्तमान दर ₹2 प्रति सैकड़ा के स्थान पर 50 पैसा प्रति सैकड़ा पर प्रभावित की जाएगी। अध्यक्ष मूलचंद भाटी ने बताया कि इस प्रकार तिलहन दलहन गेहूं सहित जिन कृषि जिंसों पर मंडी शुल्क की दर ₹1 तथा ₹1 साथ पैसा प्रति सेकेंड है उन पर भी वर्तमान में प्रभारी ₹2 प्रति सैकड़ा के स्थान पर ₹1 प्रति सैकड़ा प्रभावित किया जाए उनको शुल्क मुक्त रखा जाए। जिले के लोग गुरुवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से जयपुर निवास पर मुलाकात की। इस दौरान किसान  कल्याण फीस के बारे में खुलकर बात हुई। मुख्यमंत्री इस मुद्दे पर 1 घंटे तक  चर्चा की। नागौर व्यापार मंडल अध्यक्ष मूलचंद भाटी ने जीरा, ईसबगोल और दलहन पर किसान कल्याण फीस से होने वाले नुकसान के बारे में बताया पुरजोर तरीके से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। मुख्यमंत्री  ने पूरी बात सुनी और कहा जल्द ही इस पर  सकारात्मक फैसला देंगे। राजस्थान खाद्य पदार्थ प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल गुप्ता ने व्यापारियों के हित में अपनी बात रखी। हीरालाल भाटी ने कहा की जीरा उद्योग दाल मील में उनके कारण ही नागौर और जोधपुर में व्यापार बढ़ा पश्चिमी राजस्थान की मंडी विकसित हुई साथ में दिनेश देवड़ा और अन्य व्यापार मंडल के अध्यक्ष और पदाधिकारी भी मौजूद थे। इधर व्यापारी जगबीर छाबा, उपाध्यक्ष महावीर बांठिया, विष्णु चांडक, उपाध्यक्ष नितिन मित्तल सचिव संगठन मंत्री महावीर कोठारी, रिधकरण कुड़ी, उमेद सिंह, राजेंद्र कटारिया राजाराम टाक,  रामनिवास भाटी ने मंडल अध्यक्ष को बधाई दी व स्वागत किया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना