सोनी परिवार प्रकरण में नया खुलासा:वडोदरा सोनी परिवार आत्महत्या प्रकरण, नागौर से गिरफ्तार दोनों ज्योतिषी रिमांड पर

नागौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीड़ित परिवार से 4 और 3.50 लाख रुपए ऐंठने का आरोप, कुचेरा व खींवसर गांव के हैं दोनों

गुजरात-राजस्थान के ठग ज्योतिषियों के हाथों 32 लाख रुपए गंवा कर आत्महत्या करने वाले वडोदरा के सोनी परिवार प्रकरण में नया खुलासा हुआ है। पुष्कर-राजस्थान का वह ज्योतिषी जीवित मिला है जिसे ‘मृत’ घोषित किया गया था। आरोपी का नाम गजेंद्र भार्गव है जो कि कुचेरा गांव का रहने वाला है। इसके साथ सीताराम उर्फ साहिल भार्गव (मूलत: खींवसर) नामक आरोपी को भी गिरफ्तार किया है।

सीताराम उर्फ साहिल भार्गव ने भी सोनी परिवार से 3.50 लाख रुपए ठगे थे। वडोदरा में इस परिवार के घर से चांदी के पुराने सिक्कों से भरा कलश निकाल कर परिवार का विश्वास जीता था। इन सिक्कों पर मुद्रण वर्ष 1920 अंकित था तथा ये चांदी के थे। हालांकि वह ये कलश अपने साथ ले गया था।

अदालत ने दोनों को सात दिन के रिमांड पर सौंपा है। कर्ज और ज्योतिषियों के हाथों ठगी के चलते आर्थिक संकट में फंसे वडोदरा के छह सदस्यीय सोनी परिवार ने 2-3 मार्च की मध्य रात्रि विषाक्त पीकर आत्महत्या का प्रयास किया था। परिवार के मुखिया नरेन्द्र सोनी, उनकी पत्नी-बेटी पौत्र और बेटे भाविन सोनी सहित छह लोगों की मौत हो चुकी है।

हालांकि दम तोड़ने से पहले भाविन सोनी ने दो एफआईआर दर्ज करवाई इससे पूरा मामला उजागर हुआ कि ये परिवार ठग ज्योतिषियों के चंगुल में फंस गया था। पुलिस आरोपियों को लेकर राजस्थान के लिए रवाना हुई है। सभी पहलुओं को ध्यान में रख कर मामले की जांच कर रही है। अब तक सिर्फ दो ज्योतिषियों को गिरफ्तार किया है।

मृत कैसे घोषित हुआ गजेन्द्र, करता है दर्जी का काम

3 मार्च को वडोदरा के सोनी परिवार के 6 सदस्यों के आत्महत्या के प्रयास का मामला सामने आया। तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। तीन को हॉस्पीटल में भर्ती करवाया गया। नरेन्द्र सोनी के बेटे भाविन सोनी को इलाज के दौरान चेतना आने पर उसने पुलिस को विस्तार से बयान दिया तथा आपबीती बताई। भाविन सोनी ने ही उसके परिवार को ठगने वाले नौ ज्योतिषियों के नाम दिए। बताया कि ये वडोदरा-अहमदाबाद के अलावा पुष्कर-राजसथान से हैं।

दर्ज हुई एफआईआर में भाविन सोनी के हवाले से कहा गया कि पुष्कर में मिले ज्योतिषी ने 4 लाख रुपए लिए लेकिन वह वडोदरा आकर विधि अनुष्ठान करता उससे पहले ही उसकी मौत हो गई। इसलिए पुष्कर-राजस्थान के ज्योतिषी को मृत घोषित माना गया। गजेंद्र को मृत घोषित किया गया था इसलिए उसे यह अंदाजा भी नहीं था कि कभी पुलिस उस तक पहुंच सकती है।

लेकिन पुलिस ने जांच की। आरोपी तक पहुंच गई। पुलिस सभी पहलुओं को ध्यान में रख कर मामले की जांच कर रही है। इस ठग कांड का मुख्य सूत्रधार हेमंत जोशी है। यह भी खुलासा हुआ है कि पुष्कर में 4 लाख रुपए सोनी परिवार से ऐंठने वाला गजेंद्र भार्गव इस मामले के मुख्य सूत्रधार हेमंत जोशी का साला है। बतौर दर्जी वडोदरा-राजस्थान में जगह-जगह काम कर चुका है।

पुलिस को आशंका है कि हो सकता है कि जोशी ने ही सोनी परिवार को पुष्कर में गजेंद्र भार्गव के पास भेजा होगा। दूसरी ओर आरोपित पांच ज्योतिषी खीनराज उर्फ स्वराज पांचाराम जोशी, हेमंत पांचाराम जोशी, अल्केश प्रकाश जोशी, विजय गिरीश जोशी और प्रहलादराम छेला राम जोशी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज हो गई है। शुक्रवार को अदालत ने ये अर्जी खारिज कर दी।

खबरें और भी हैं...