नाबालिग से गैंगरेप मामला:आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन, कुचामन थाने का किया घेराव, जल्द गिरफ्तारी के आश्वासन पर माने

नागौर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घेराव करते लोग। - Dainik Bhaskar
घेराव करते लोग।

नागौर जिले के कुचामनसिटी में नाबालिग दलित लड़की से गैंगरेप के मामले के विरोध में ग्रामीणों में आक्रोश है। आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर ग्रामीणों ने गुरुवार को कुचामन थाने का घेराव कर विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस की ओर से आरोपियों की पहचान होने व आरोपियों को गिरफ्तार करने का आश्वासन देने पर मामला शांत हुआ। उल्लेखनीय है कि नागौर में नाबालिग दलित लड़की को एक होटल किनारे सड़क पर फेंक दिया था।

ग्रामीणों को आश्वासन देते पुलिस अधिकारी।
ग्रामीणों को आश्वासन देते पुलिस अधिकारी।

​​​​​मीठड़ी के पूर्व सरपंच लोकेन्द्र सिंह के नेतृत्व में ग्रामीण कुचामन थाने पहुंचे और विरोध जताया। ग्रामीण आरोपियों को गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। ग्रामीण करीब दो घंटे तक विरोध प्रकट करते रहे। आखिर पुलिस ने आश्वासन दिया कि आरोपियों की पहचान हो चुकी है और उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस पर ग्रामीण मान गए और धरना खत्म कर लौट गए।

पुलिस से उलझते ग्रामीण।
पुलिस से उलझते ग्रामीण।

यह है मामला

कुचामन सर्किल इंस्पेक्टर रामवीर जाखड़ के अनुसार, 17 साल की नाबालिग पीड़िता की मां ने शिकायत की है कि उसकी बेटी सुबह 10 बजे कुचामन गई हुई थी। वहां उसे दो युवकों ने जबरदस्ती अपनी कार में बैठा लिया। इसके बाद उसे कोई नशीली चीज खिलाकर बेहोश कर कार में पीछे वाली सीट पर पटक दिया। दोनों आरोपियों ने उससे सामूहिक दुष्कर्म किया। फिर देर शाम 5 उसे कुचामन स्थित रेनबो होटल के बाहर सड़क पर लहूलुहान हालत में पटक कर भाग गए। पीड़िता लोगों से मदद मांगकर घर पहुंची। देर शाम किसी अज्ञात नंबर से पीड़िता के भाई को फोन आया। उसे मामले की रिपोर्ट पुलिस में करने पर जान से मारने की धमकी दी गई। फोन करने वाले ने कहा कि उसकी बहन के कई अश्लील फोटो-वीडियो हैं। शिकायत की गई तो सभी जगह सोशल मीडिया पर पोस्ट कर देगा।

पढे़ं यह खबर भी...नाबालिग से गैंगरेप कर सड़क पर फेंका:मां का आरोप- पुलिस ने मामला दबाने की कोशिश की ; भाई को फोन पर धमकी मिली- शिकायत की तो बहन के फोटो वायरल कर देंगे

खबरें और भी हैं...