पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

राजस्थान:10 साल के बच्चे का अपहरण कर मांगी फिरौती, पांच दिन बाद मध्यप्रदेश से मुक्त करवाया, हिस्ट्रीशीटर गिरफ्तार

बारां6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बारां के बागचा पुलिस ने पांच दिन पहले अपहृत 10 साल के बच्चे को मुक्त करवा लिया। इसे छोड़ने की एवज में फिरौती मांगी गई थी।
  • बारां जिले के थाना बापचा क्षेत्र के गांव खेरखेडा भूरा से अगवा किया गया था बच्चा
  • जिले की पांच थानों की टीम ने मध्यप्रदेश में गुना पुलिस के साथ मिलकर कार्रवाई की
Advertisement
Advertisement

जिले के बापचा क्षेत्र के गांव खेरखेड़ा भूरा से पांच दिन पहले अगवा किये 10 वर्षीय बच्चे को पुलिस ने मध्यप्रदेश से सकुशल मुक्त करवा लिया और अपहरण की इस वारदात में शामिल मध्यप्रदेश के ही एक हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार कर लिया। जबकि अन्य बदमाशों की तलाश में छापामारी जारी है। उनकी पहचान कर ली गई है। इस कार्रवाई में बारां जिले के पांच थानों तथा स्पेशल टीम ने मध्यप्रदेश में गुना एसपी राजेश सिंह और स्थानीय पुलिस टीम शामिल रही।

बारां एसपी डॉ0 रवि सबरवाल ने बताया कि 27 जुलाई की रात थाना बापचा क्षेत्र के खेरखेड़ा भूरा गांव के पप्पू उर्फ पर्वत सिंह लोधा के 10 वर्षीय बेटे रामेश्वर सिंह को उसके घर से अज्ञात बदमाश अगवा कर ले गये। पर्वत सिंह की रिपोर्ट पर अपहरण का मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू की। 29 जुलाई को अपहर्ता बालक के पड़ोसी के फोन पर अपहरणकर्ताओं ने फोन कर 5 लाख रूपये की फिरौती मांगी। इस पर एएसपी विजय स्वर्णकार के नेतृत्व में 5 अलग-अलग टीमों का गठन किया गया। जिला स्पेशल टीम को भी शामिल किया गया।

सायबर सेल की पड़ताल में फोन मध्यप्रदेश के गुना जिले में एक गांव से होना का पता चला

एएसपी विजय स्वर्णकार ने बताया कि सायबर सेल के तकनीकी विश्लेषण तथा शुरूआती अनुसंधान में अपहरणकर्ताओं व बच्चे का जिला गुना मध्य प्रदेश के किसी गांव में होना पता चला। इस पर मध्य प्रदेश पुलिस से समन्वय कर थाना कुंभराज जिला गुना निवासी हिस्ट्रीशीटर शिवराज मीणा को राउण्ड अप कर पूछताछ की गई। पूछताछ में पता चला कि बालक को तीन लोगों ने एक विशेष स्थान पर बंधक बनाया हुआ है।

इसके बाद गुना जिला (मप्र) के एसपी राजेश सिंह की अगुवाई में पुलिस की विशेष टीम थाना कुंभराज (मप्र) का जाप्ता, बारां डीएसटी टीम प्रभारी रामेश्वर प्रसाद एवं थानाधिकारी बापचा हरलाल मीणा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने अपहृत बच्चे को मुक्त करवा लिया। लेकिन भनक लगने से अपहरणकर्ता वहां से फरार हो गए।

फिरौती की रकम देने के बहाने बिछाया पुलिस ने जाल

एसपी डॉ. रवि ने बताया चूंकि अपहृत बच्चे रामेश्वर की सलामती पहली प्राथमिकता थी। इसके लिए वैकल्पिक रणनीति के तहत सीओ ओमेन्द्र शेखावत के नेतृत्व में थानाधिकारी छबड़ा, सारथल, छीपाबड़ौद, हरनावदा तथा थानाधिकारी कवाई को पैसे की व्यवस्था कर फिरौती की रकम अपहरणकर्ताओं तक पहुंचाने व फिरौती देते समय अपहरणकर्ताओं को दबोचने की रणनीति तैयार की गई थी। पुलिस के इस जाल में अपहरणकर्ता फंस गए। इससे बच्चा बरामद हो गया।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement