राजस्थान के रण में विरोधियों को गहलोत का मैसेज:पायलट के बयान के 2 घंटे बाद विक्ट्री साइन बनाकर संकेतों में जवाब

जयपुर/उदयपुर3 महीने पहलेलेखक: गोवर्धन चौधरी

एक बार फिर पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और CM अशोक गहलोत के बीच कोल्ड वॉर शुरू हो गया है। शुरुआत कांग्रेस में युवाओं को भूमिका देने और पदों पर बैठे नेताओं के पार्टी के लिए त्याग करने के सुझावों से हुई है। चिंतन शिविर के बीच गहलोत का हावभाव चर्चा का विषय बन गया है। पायलट ने पहले दिन ही चिंतन शिविर के मीडिया सेंटर के बाहर बयान दिया कि युवाओं को बड़ी भूमिका दी जाएगी। पायलट समर्थक प्रमोद कृष्णम ने पायलट के साथ नाइंसाफी होने की बात दोहराते हुए कहा कि हाईकमान अब इंसाफ करेगा। इन बयानों के 2 घंटे बाद सीएम अशोक गहलोत ने मीडिया सेंटर में आकर विक्ट्री साइन दिखाया। उन्होंने इशारों ही इशारों में साफ कर दिया है कि फिलहाल वह टेंशन फ्री हैं।

चिंतन शिविर के बाद सीएम गहलोत ने कुछ इस तरह विक्ट्री साइन दिखाकर समर्थकों का उत्साह बढ़ाया। इसके बीच फिर सियासी चर्चाएं शुरू हो गई हैं।
चिंतन शिविर के बाद सीएम गहलोत ने कुछ इस तरह विक्ट्री साइन दिखाकर समर्थकों का उत्साह बढ़ाया। इसके बीच फिर सियासी चर्चाएं शुरू हो गई हैं।

गहलोत अपने समर्थक राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के साथ चिंतन शिविर के मीडिया सेंटर पहुंचे। देश-प्रदेश के सैकड़ों मीडियाकर्मियों की मौजूदगी में गहलोत ने काफी देर तक विक्ट्री साइन दिखाया। कई बार विक्ट्री साइन बनाते हुए फोटो भी खिंचवाए। इसके बाद गहलोत ने मीडिया से बातचीत करते हुए केंद्र पर हमला बोला।

अशोक गहलोत ने शिविर में सभी का अभिनंदन किया।
अशोक गहलोत ने शिविर में सभी का अभिनंदन किया।

चाय पर चर्चा, हंसी मजाक और फिर खुद गहलोत ने वीडियो बनाया
चिंतन शिविर के मीडिया सेंटर में गहलोत ने चाय पर चर्चा की। गहलोत मंच पर नहीं बैठकर नीचे कुर्सियों पर बैठे। सेंटर में इस दौरान मीडियाकर्मियों की भारी भीड़ हो गई। इसके बाद गहलोत ने मंच पर जाकर मीडिया सेंटर में भीड़ के नजारे का वीडियो बनाया। गहलोत का हावभाव से साफ दिख रहा था कि वह काफी रिलैक्स फील कर रहे हैं। किसी भी तरह के प्रेशर से वह मुक्त नजर आए।

पीसीसी अध्यक्ष डोटासरा के साथ चाय पीते सीएम अशोक गहलोत।
पीसीसी अध्यक्ष डोटासरा के साथ चाय पीते सीएम अशोक गहलोत।

टेंशन फ्री होने का प्रदर्शन
गहलोत ने शनिवार को टेंशन फ्री होने का का मैसेज संकेतों में दिया है। इसके सियासी मायने भी हैं। राजनीतिक जानकारों के मुताबिक, गहलोत ने चिंतन शिविर के बाद सीएम स्तर पर बदलाव की संभावनाओं को नकारने का मैसेज दिया है। इसे पायलट समर्थकों को सीधा जवाब माना जा रहा है।

चिंतन शिविर के दौरान सीएम अशोक गहलोत ने अपने मोबाइल में फोटो भी क्लिक किए।
चिंतन शिविर के दौरान सीएम अशोक गहलोत ने अपने मोबाइल में फोटो भी क्लिक किए।

सोनिया की त्याग की नसीहत वाला सवाल टाल गए गहलोत
गहलोत ने पिछले दिनों मुख्यमंत्री बदलने की चर्चाओं पर कहा था कि मैं 22 साल पहले जब पहली बार सीएम बना था तब से मेरा इस्तीफा सोनिया गांधी के पास पड़ा है। सोनिया गांधी जब चाहें, तब मेरा इस्तीफा इस्तेमाल कर सकती हैं। मुख्यमंत्री जब बदलेगा तो किसी को कानों कान भनक नहीं लगेगी। सुबह अखबार से ही पता लगेगा कि मुख्यमंत्री बदल गया। इस बयान के बाद चिंतन शिविर शुरू हो गया। चिंतन शिविर में सोनिया गांधी ने नेताओं से कहा कि पार्टी ने बहुत दिया है, अब कर्ज चुकाने का समय है। गहलोत से जब सोनिया गांधी के पार्टी नेताओं से कर्ज चुकाने का समय होने के बयान पर पूछा गया तो वह टाल गए। गहलोत से पूछा गया कि जिन नेताओं को पद मिल गया, अब त्याग कौन करेगा, इसका जवाब नहीं दिया।

ये भी पढ़ें-

60 साल में क्या किया भाजपा को जवाब देगी कांग्रेस:अविनाश पांडे बोले- भाजपा ने झूठ फैलाया, उसे काटने के लिए जवाब देंगे

कांग्रेस के नए फार्मूला 10 स्टेट का भविष्य तय करेंगे:चिंतन शिविर के दो दिन सबसे अहम, कल निर्णयों पर लगेगी मुहर

कांग्रेस के चिंतन शिविर में 8 चौंकाने वाले पोस्टर:गांधी परिवार से ज्यादा अहमियत सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह और सरदार पटेल को