राजस्थान में कोरोना की तीसरी लहर पर भास्कर सर्वे:52.4% लोग स्कूल-कॉलेज बंद करने के पक्ष में; 83.4% बोले- लॉकडाउन या बाजार बंदी न हो

जयपुर6 महीने पहलेलेखक: वैभव माथुर
  • कॉपी लिंक

राजस्थान सरकार का कोविड मैनेजमेंट कैसा है? दैनिक भास्कर ने ऑनलाइन सर्वे में 10 सवालों के जरिए इस एक सवाल का जवाब तलाशने की कोशिश की। सर्वे में 85, 908 लोगों ने राय दी। सर्वे में कई चौंकाने वाले नतीजे सामने आए।

30.3% लोगों का कहना है कि तीसरी लहर तो आनी ही थी। 30.7% लोग मानते हैं कि केस बढ़ने के लिए सरकार से ज्यादा जिम्मेदार जनता है। 77.6% का कहना है कि गाइडलाइन का फायदा तभी मिल पाएगा जब इसका सख्ती से पालन होगा। 83.4% लाेग लॉकडाउन-बाजार बंद के पक्ष में नहीं हैं। वहीं 52.4% ने कहा- तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए स्कूल-कॉलेज बंद होने चाहिए।

आगे की स्लाइड में पढ़िए सर्वे की डिटेल रिपोर्ट

बाकी के चार सवालों पर मिली-जुली प्रतिक्रिया
- सर्वे में शामिल ज्यादातर लोगों का मानना था कि कांग्रेस की राष्ट्रीय रैली और न्यू ईयर पार्टी में छूट के कारण भी कोरोना के केस बढ़े हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनका मानना है कि तीसरी लहर पूरे देश में आई है, इसलिए इन दोनों ही बातों को तीसरी लहर के लिए जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते।

- कोरोना संकट में विपक्ष की भूमिका पर भी लोगों की मिली जुली प्रतिक्रिया है। आधे लोगों का मानना है कि विपक्ष अपनी भूमिका नहीं निभा पाया। वहीं आधे लोगों का मानना है कि विपक्ष ने भूमिका निभाई, हालांकि इसमें और सुधार की गुंजाइश थी।

- सर्वे में शामिल 58% लोगों ने सरकार को 3 से 5 के बीच में रेटिंग दी। इनका मानना है कि सरकार अच्छा काम कर रही है, लेकिन सुधार की गुंजाइश भी है। वहीं 42% लोग सरकार के काम से खुश नजर नहीं आए। इन्होंने 1 से 2 नंबर के बीच रेटिंग दी।

- सर्वे में शामिल 52% से ज्यादा लोगों ने वैक्सीनेशन को संतोषजनक बताया। वहीं 27% लोगों ने गाइडलाइन पर संतुष्टि जताई। सर्वे में ट्रीटमेंट और ओमिक्रॉन कंट्रोल न होने को लेकर लोगों ने नाराजगी जताई। इन्हें 10% से भी कम वोट मिले।