पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डिप्रेशन में खत्म हो गया परिवार:पहले जवान बेटे ने खुदकुशी की, फिर बेटी की बीमारी से मौत हुई, अब मां ने जान दे दी, मानसिक बीमार बेटे की जिम्मेदारी 70 साल के बुजुर्ग पर

पाली11 दिन पहले
मृतका कौशल्यादेवी पुरोहित।

पाली जिले के पुराना हाउसिंग बोर्ड में एक 65 वर्षीय बुजुर्ग कौशल्या देवी ने मंगलवार देर रात को घर में बने हौद में कूद कर जान दे दी। सूचना मिलते ही बुधवार सुबह पुलिस मौके पर पहुंची। कौशल्या देवी का शव बांगड़ अस्पताल की मॉर्चरी में रखवाया गया है।

औद्योगिक थाने के सब इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह ने बताया कि 65 वर्षीय कौशल्या देवी पत्नी सुरेशचंद्र पुरोहित पिछले लंबे समय से बीपी, शुगर और हृदय रोग से परेशान थी। उनका बेटा भी विमंदित है। उसको लेकर भी चिंता में रहती थी। बीमारी व बेटे की चिंता से वह डिप्रेशन में आ गई और मंगलवार रात को घर में बने हौद में कूदकर खुदकुशी कर ली। अलसुबह सुरेश चंद लघुशंका के लिए उठे तो पत्नी पलंग पर नहीं थी। उन्होंने बाहर देखा तो घर में बने हौद का ढक्कन खुला मिला। जिसमें झांकने पर अंदर कौशल्यादेवी का शव दिखा। उनकी सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और कौशल्या देवी का शव बांगड़ अस्पताल की मॉर्चरी में रखवाया गया।

शोक में डूबे सुरेशचंद्र पुरोहित।
शोक में डूबे सुरेशचंद्र पुरोहित।

70 वर्षीय वृद्ध के कंधों पर आई विमंदित बेटे की देखभाल की जिम्मेदारी

पत्नी का यह कदम उठाने से 70 वर्षीय वृद्ध की बूढ़ी आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे। पत्नी की मौत से मानसिक रूप से कमजोर बेटे चंद्रप्रकाश की जिम्मेदारी सुरेशचंद्र के बूढ़े कंधों पर आ गई। सुरेशचंद्र आबकारी में अकाउंटेंट के पद से सेवानिवृत्त हो चुके हैं।

मानसिक रूप से कमजोर चन्द्रप्रकाश जिसकी देखभाल की जिम्मेदारी अब बुजुर्ग सुरेशचंद्र के कंधों पर आ गई।
मानसिक रूप से कमजोर चन्द्रप्रकाश जिसकी देखभाल की जिम्मेदारी अब बुजुर्ग सुरेशचंद्र के कंधों पर आ गई।

बड़ा बेटा भी पूर्व में कर चुका है आत्महत्या

70 वर्ष की उम्र में जहां अपने बेटों से सेवा की उम्मीद होती हैं उस उम्र में उनके कंधों पर मानसिक रूप से कमजोर बेटे की देखभाल की जिम्मेदारी आ गई। जानकारी के अनुसार 26 वर्षीय बेटा पंकज भी नौकरी नहीं मिलने के कारण डिप्रेशन का शिकार होकर कुछ वर्ष पूर्व आत्महत्या कर चुका है। बेटी आशा की शादी भी सुरेशचंद्र ने धूमधाम से की, लेकिन शुगर के चलते शादी के कुछ साल बाद उसकी भी मौत हो गई। दो जवान संतानों की मौत का दुख सुरेश अभी भूले भी नहीं थे कि पत्नी कौशल्या ने यह कदम उठा लिया।

सुरेशचंद पुरोहित का बेटा पंकज पुरोहित जिसने डिप्रेशन के चलते 30 जून 2013 को आत्महत्या कर ली थी।
सुरेशचंद पुरोहित का बेटा पंकज पुरोहित जिसने डिप्रेशन के चलते 30 जून 2013 को आत्महत्या कर ली थी।
सुरेशचंद की बेटी आशा जिसकी वर्ष 2015 में शुगर की बीमारी से मौत हो गई।
सुरेशचंद की बेटी आशा जिसकी वर्ष 2015 में शुगर की बीमारी से मौत हो गई।
खबरें और भी हैं...