• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • 8 Districts Moving Towards Danger, If The Lockdown Is Not Strictly Followed, Then There Is A Loss In Every Way

15 जिलों में कोविड पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा:खतरे की ओर बढ़ते 8 जिले,सख्ती से लॉकडाउन पालन नहीं,तो हर तरह से नुकसान

जयपुर9 महीने पहले
15 जिलों में कोविड पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा

राजस्थान के 15 जिलों में वीकली कोविड पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा है। जोकि खतरे का स्तर माना जाता है। जबकि 8 जिले खतरे की ओर बढ़ रहे हैं। जहां संक्रमण की रेट 5 से 10 फीसदी के बीच है। 9 से 15 जनवरी तक बीते सप्ताह के ये चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर, कोटा, भरतपुर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, सीकर, डूंगरपुर, धौलपुर, अलवर, जैसलमेर, बाड़मेर, सवाईमाधोपुर में 10 फीसदी से ज्यादा कोविड पॉजिटिविटी रेट रिकॉर्ड हुई है। जोधपुर 24.56 फीसदी संक्रमण रेट के साथ टॉप पर है। जयपुर 24.46 पॉजिटिविटी रेट के साथ दूसरे नम्बर पर है। उदयपुर में 22.96, बीकानेर में 22.50 फीसदी कोविड पॉजिटिविटी रेट रिकॉर्ड हुई है।

सख्ती से लॉकडाउन नियमों का पालन नहीं

चिंता की बात यह है कि जिन जिलों में कोविड पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा है। वहां लॉकडाउन की कड़ाई से पालना नहीं हो रही है। जबकि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइंस है कि उन जिलों में सख्ती से लॉकडाउन के नियमों का पालन करना होगा। ऐसे हालातों में किसी भी तरह की लापरवाही स्थिति को और भी खराब कर सकती है। भारत में 283 जिले ऐसे हैं जहां पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा है। देश के 164 जिलों में 5 से 10 फीसदी के बीच पॉजिटिविटी रेट है। 287 जिलों में 5 फीसदी से कम पॉजिटिविटी रेट है। राज्यों से गैर जरूरी यात्रा और भीड़भाड़ से बचने के लिए केन्द्र के निर्देश हैं।

राज्यों के लिए 4 अहम दिशा निर्देश हैं लागू

1. उन क्षेत्रों पर कंट्रोल और निगरानी रखना जहां कोरोना के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हों।

2. कोविड केसेज की मैपिंग,संक्रमितों से जुड़े संपर्कों का पता लगाना और कंटेनमेंट जोन बनाना।

3.बच्चों की मेडिकल देखभाल पर ध्यान देने के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार करना।

4. ICMR गाइडलाइन के अनुसार मौत के आंकड़ों को दर्ज करना।

डॉ सुधीर भण्डारी,प्रिंसिपल,SMS मेडिकल कॉलेज,जयपुर।
डॉ सुधीर भण्डारी,प्रिंसिपल,SMS मेडिकल कॉलेज,जयपुर।

लापरवाही बरती तो जिन्दगी के हर पहलू को नुकसान

दैनिक भास्कर से बातचीत में सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज,जयपुर के प्रिंसिपल डॉ सुधीर भण्डारी ने कहा कि मुझे लोगों से यही कहना है कि बेस्ट इंफ्रास्ट्रक्चर, बेस्ट हॉस्पिटल, बेस्ट डॉक्टर्स कोविड के नम्बर को कंटेन नहीं कर पाएंगे। कंटेन तो आम जन को करना पड़ेगा। डिसिप्लेन और कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर रखें। तब तो लाइफ चलती रहेगी। कॉमर्शियल एक्टिविटी चलती रहेंगी। बिजनेस को नुकसान नहीं होगा। वरना केसेस बढ़ते गए, तो बीमारियों की संख्या भी बढ़ेगी। उसके कारण जिन्दगी का पहलू प्रभावित हो सकता है।

- डॉ. सुधीर भण्डारी,प्रिंसिपल,SMS मेडिकल कॉलेज,जयपुर

15 जिलों में 10 फीसदी से ज्यादा कोविड पॉजिटिविटी

जिलाकोविड पॉजिटिविटी रेट प्रतिशत
जोधपुर24.56
जयपुर24.46
उदयपुर22.96
बीकानेर22.50
कोटा18.96
भरतपुर18.39
भीलवाड़ा17.85
चित्तौड़गढ़17.22
सीकर14.41
डूंगरपुर13.92
धौलपुर12.23
अलवर12.17
जैसलमेर11.78
बाड़मेर10.62
सवाईमाधोपुर10.60

8 जिलों में 5 से 10 फीसदी संक्रमण रेट

जिलाकोविड पॉजिटिविटी रेट प्रतिशत
नागौर9.77
दौसा9.31
सिरोही9.30
प्रतापगढ़8.12
श्रीगंगानगर7.53
बारां7.11
झालावाड़5.65
राजसमंद5.63

10 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 5 फीसदी से कम

जिलाकोविड पॉजिटिविटी रेट प्रतिशत
हनुमानगढ़4.96
बूंदी4.10
बांसवाड़ा3.97
अजमेर3.94
चूरू3.78
पाली3.59
झुंझुनूं2.99
करौली2.26
टोंक1.78
जालोर1.67
खबरें और भी हैं...