• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • After 10 Years, 75 Thousand Farmers Will Be Given Connections, Electricity Will Be Supplied During The Day

गहलोत सरकार अपने पिछले राज के बकाया कृषि कनेक्शन देगी:10 साल बाद 75 हजार किसानों को दिए जाएंगे कनेक्शन, दिन में होगी बिजली सप्लाई

जयपुरएक महीने पहले

प्रदेश में 10 साल के लंबे इन्तजार के बाद किसानों को 75 हजार बिजली कनेक्शन दिए जा रहे हैं। ये बिजली कनेक्शन सीएम गहलोत के पिछले कार्यकाल के वक्त 2012 से पेंडिंग चले आ रहे थे। जिन्हें मंजूर करने का काम अब पूरा किया जा रहा है। सीएम गहलोत ने अपने पिछले राज के बकाया कृषि कनेक्शन जारी करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही सभी 33 जिलों के किसानों को खेती-बाड़ी में सिंचाई के लिए दिन में बिजली देने का भी फैसला लिया गया है। फिलहाल 17 जिलों में बिजली सप्लाई शुरू हो गई है।

मार्च तक 75 हजार कृषि बिजली कनेक्शन होंगे जारी
प्रदेश के ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने बताया कि मुख्यमंत्री गहलोत ने फाइनेंशियल ईयर 2021-22 में 50 हजार कृषि बिजली कनेक्शन की बजट घोषणा की थी। इसमें से अब तक 45 हजार कनेक्शन जारी हो चुके हैं। 5 हजार कनेक्शन बकाया हैं। इसके अलावा भी 25 हजार आवेदन पेंडिंग हैं। मार्च 2022 तक सभी कनेक्शन जारी कर दिए जाएंगे।

नवीन अरोड़ा, एमडी, JVVNL
नवीन अरोड़ा, एमडी, JVVNL

जनरल कृषि कनेक्शन की दिसम्बर 2012 से वेटिंग
जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (JVVNL) के एमडी नवीन अरोड़ा ने दैनिक भास्कर से बातचीत में बताया कि सरकार ने कहा है 31 दिसम्बर 2012 तक की पेंडेंसी निपटाकर कृषि कनेक्शन जारी किए जाएं। ऐसे 75 हजार कनेक्शन हैं, जिन्हें इसी फायनेंशियल ईयर में दिया जा रहा है। सामान्य श्रेणी के किसानों की कनेक्शन के लिए वेटिंग 9 साल से ज्यादा चल रही है।

वेटिंग से केवल 25 हजार रुपए में ही कृषि कनेक्शन दिए जाते हैं। जबकि प्रति कनेक्शन 2.50 लाख तक आने वाली लागत का भार डिस्कॉम ही उठाता है। ऐसे कनेक्शन पर 90 पैसे प्रति यूनिट ही बिजली की रेट ली जाती है। डिस्कॉम की ओर से सब्सिडाइज बिजली दी जाती है।

हालांकि एससी-एसटी को कृषि कनेक्शन प्राथमिकता से दिए जाते हैं। उनमें वेटिंग नहीं रहती है। जो लोग सक्षम हैं, वेटिंग नहीं करना चाहते हैं और जिन्हें तुरंत कृषि बिजली कनेक्शन चाहिए। उन्हें फुल पेमेंट के आधार पर करीब 2.50 लाख रुपए में कनेक्शन जारी किया जाता है। उनसे शुरूआती 3 साल में बिजली की रेट भी 2.45 रुपए प्रति यूनिट चार्ज की जाती है। उसके बाद 90 पैसे प्रति यूनिट चार्ज लगाया जाता है।

शेष 16 जिलों में भी सिंचाई के लिए दिन में मिलेगी बिजली
सरकार ने फैसला लिया है कि प्रदेश में किसानों को खेती-बाड़ी की सिंचाई के लिए दिन में बिजली दी जाएगी। 33 में से 17 जिलों में दो ब्लॉक में बिजली सप्लाई शुरू कर दी गई है। बाकी 16 जिलों में दिन में बिजली देने के लिए वर्क प्लान तैयार किया जा रहा है। किसानों को दिन में बिजली देने के लिए बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है।

देशभर में राजस्थान की ज्योग्राफिकल कंडीशन सोलर एनर्जी के लिहाज से बेहतरीन है, इसलिए सोलर पावर हमारी ताकत है। राजस्थान देश में सोलर एनर्जी प्रोडक्शन में आज नम्बर 1 है। अब इस क्षेत्र में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स को भी आमंत्रित किया जा रहा है। सोलर एनर्जी में इन्वेस्टमेंट से रोजगार भी बढ़ेंगे।

बिजली मंत्री भंवर सिंह भाटी ने ली विभाग की मीटिंग।
बिजली मंत्री भंवर सिंह भाटी ने ली विभाग की मीटिंग।

1 हजार रुपए महीना छूट से किसानों के बिल जीरो
मंत्री भाटी ने बताया कि किसानों को बिजली कनेक्शन पर हर महीने 1 हजार और सालाना 12 हजार रुपए की छूट दी जा रही है। इससे 5 एचपी और 12 एचपी वाले किसानों को बिजली बिलों में बड़ी राहत मिली है। उन्होंने दावा किया कि लाखों किसानों के बिल सरकार की स्कीम से जीरो हो गए हैं।