आपने पतंग उड़ाने का लाइसेंस लिया?:कानून में पतंग को माना विमान, लापरवाही से उड़ाने पर 2 साल की सजा या 10 लाख का जुर्माना

जयपुर4 महीने पहलेलेखक: वैभव माथुर

ये तो आप जानते हैं कि चाइनीज मांझे से पतंग उड़ाना जुर्म है, लेकिन क्या आपको पता है कि पतंग उड़ाने के लिए भी लाइसेंस लेना जरूरी है। इतना ही नहीं, लापरवाही से पतंग उड़ाने पर भी आपको 2 साल की सजा हो सकती है और 10 लाख रुपए का जुर्माना भरना पड़ सकता है।

इससे भी ज्यादा चौंकाने वाली बात यह है कि इंडियन एयरक्राफ्ट एक्ट 1934 के अनुसार, पतंग को एयरक्राफ्ट की श्रेणी में शामिल किया है। यदि लापरवाही से पतंग उड़ाई जाए और इससे किसी को नुकसान होता है तो एक्ट की धारा 11 के तहत पतंग उड़ाने वाले को दो साल की सजा हो सकती है या 10 लाख रुपए तक जुर्माना लगाया जा सकता है।

जानकारों का कहना है कि यह कानून अंग्रेजों ने पतंग और गुब्बारों के माध्यम से क्रांतिकारियों के बीच एक-दूसरे को संदेश भेजने की प्रक्रिया बंद करने के लिए बनाया था, जो अब बेकार हाे चुका है। इसके बावजूद इसे रद्‌द नहीं किया जा रहा।

पहले 6 महीने की सजा और 1 हजार रुपए जुर्माना था
वरिष्ठ वकील एके जैन का कहना है कि यह नियम पूरे देश में लागू है। एक्ट की शुरुआत में लापरवाही से पतंग उड़ाने पर छह माह की सजा और एक हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान था। 2008 में इसमें संशोधन कर दो साल की सजा या 10 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान किया गया। हालांकि, कानून के जानकारों का कहना है कि एक्ट में आज तक किसी को भी सजा नहीं हुई।

गुब्बारा भी विमान की कैटगिरी में
एयरक्राफ्ट एक्ट 1934 के तहत धारा 2 (1) में है कि वायुयान का मतलब ऐसी कोई मशीन से है, जो वातावरण से वायु की प्रतिक्रिया द्वारा ऊंचाई प्राप्त कर सकती है। इसके तहत बैलून, हवा में उड़ने वाली स्थिर-अस्थिर मशीन, पतंग, ग्लाइडर और उडड्यन मशीनें आती हैं। यह कानून पूरे देश में और सभी व्यक्तियों पर एक समान लागू है।

कानून रद्‌द करो या लाइसेंस दो
कुछ समय पहले देश की 5 यूनिवर्सिटी और कॉलेज के 224 स्टूडेंट्स ने एनजीओ सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के सहयोग से एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू और डीजीसीए को पत्र लिखा। पत्र में उन्होंने मांग की कि या तो गणतंत्र दिवस पर उन्हें पतंग और गुब्बारे उड़ाने की इजाजत दी जाए या फिर इस कानून को रद्‌द कर दिया जाए। उनका तर्क था कि इस कानून की आड़ में किसी भी पतंग उड़ाने वाले को पुलिस जब चाहे, जेल भेज सकती है।

दुनिया में पतंगों को लेकर नियम

  • पूर्वी जर्मनी में बड़ी पतंग उड़ाना बैन है, क्योंकि इनकी मदद से लोग बर्लिन की दीवार फांद कर पश्चिम जर्मनी में दाखिल हो जाते थे।
  • 1760 में जापान में पतंगबाजी बैन कर दी गई थी, क्योंकि इससे काम प्रभावित होने लगा था।
  • 78 तरह के नियम हैं थाईलैंड में पतंगबाजी को लेकर।