पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अजमेर के केकड़ी में हुआ हादसा:तालाब में डूबने से महिला और 7 साल के भांजे की मौत, बच्चे को बचाने पानी में उतरी थी; दोनों के शव निकाले गए

केकड़ी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मोर्चरी के बाहर कार्रवाई करती पुलिस।
  • माता-पिता की इकलौती संतान अपने ननिहाल आया था, घर में मचा कोहराम

(ज्ञानप्रकाश दाधीच)। अजमेर जिले में केकड़ी थाना क्षेत्र के कन्नौज गांव में एक महिला और उसका भांजे की तालाब में डूबने से मौत हो गई। भांजा फिसलकर तालाब में गिर गया। महिला उसे बचाने के लिए तालाब में कूद पड़ी। दोनों ने बाहर निकलने के लिए काफी हाथ-पैर मारे लेकिन थोड़ी देर में ही उनकी मौत हो गई।

पुलिस ने बताया कि 23 वर्षीय सुशीला पत्नी छीतर गुर्जर और उसका 7 वर्षीय भांजा आदर्श खेत से लौट रहे थे। इस दौरान पुलिया के निकट तालाब में आदर्श फिसल कर गिर गया। उसे बचाने के लिए सुशीला भी तालाब में कूद पड़ी लेकिन वह उसे बचा नहीं पाई। दोनों की मौत हो गई। ग्रामीणों ने दोनों को बाहर निकाला। मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को राजकीय अस्पताल पहुंचाया जहां पोस्टमार्टम किया गया।

मदद मिलने में देरी हो गई
दोनों को मदद मिलने में थोड़ी सी देरी हो गई। तालाब से कुछ दूरी पर छत से किसी ने इन्हें डूबते हुए देखा। उसने तत्काल गांव में सूचना करवाई जिससे लोग मौके पर पहुंचे, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। दोनों की सांसें थम गई थीं।

ठेकेदार की लापरवाही से गई दो जानें
ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिया निर्माण के दौरान किनारे से जो मिट्टी उठाई गई इससे तालाब की गहराई बढ़ गई। पिछले दिनों बारिश और तालाब का पानी फैलने से इस में पानी भर गया। इस कारण पूर्व में भी एक बालक की डूबने से मौत हो चुकी है।

ननिहाल आया था आदर्श
ग्रामीणों को कहना है कि इस तरह की अनियमितता पर प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए। आदर्श वह अपने गांव बनेडिया नासिरदा से अपने ननिहाल कन्नौज आया था। वह अपने माता-पिता नाथी बाई और गणेश का इकलौता बच्चा था। दोनों की मौत से घर में कोहराम मच गया। घटना के बाद परिजन शोक संतप्त और बेसुध हैं। मोर्चरी के बाहर आदर्श की मां का रो-रो कर बुरा हाल था और वह बेसुध हो गई।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें