• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Amidst Heavy Bombardment, Went To The Railway Station, Did Not Sit In The Train, Then The Army Surrounded Him While Coming Back

यूक्रेन में बमबारी के बीच भूख से बेहोश हुए स्टूडेंट्स:शेल्टर होम में 13 बच्चों की तबीयत खराब, बोले- यहीं मरने के लिए छोड़ दें

जयपुर4 महीने पहलेलेखक: सौरभ खंडेलवाल

यूक्रेन में फंसे छात्रों को अब सिर्फ जंग के हालातों से ही नहीं, भूख-ठंड और बीमारी से भी लड़ना पड़ रहा है, इन सबके बीच फिलहाल उन्हें कहीं से किसी भी तरह की मदद की उम्मीद नहीं दिख रही है। कई स्टूडेंट्स की हिम्मत अब जवाब देने लगी है। एम्बेसी से सटे स्कूल में शरण लिए कई बच्चे भीषण ठंड और भूख के मारे बेहोश हो गए हैं। पढ़िए, एम्बेसी के शेल्टर होम से लाइव रिपोर्ट...

हमें सोए हुए 5 दिन हो गए हैं। 3 दिन से ठीक से खाना नहीं खा पाए हैं। ठीक से खड़े नहीं हो पा रहे हैं। हमें कीव से ही निकाला जाए, हम यहां से कहीं नहीं जा सकते। यदि यहां से नहीं निकाल सकते तो हमें यहीं मरने के लिए छोड़ दें। उन्होंने बताया कि हम रात भर बंकर में रहे। माइनस में तापमान के बीच मिट्‌टी में बैठे हैं। ठंड के मारे 13 लोग बेहोश हो गए हैं। कई लोगों को बार-बार पैनिक अटैक आ रहा है। कई लोग बीमार पड़ गए हैं। हमारे पास दवाइयां भी नहीं है। एम्बेसी हमें वेस्टर्न बॉर्डर पर पहुंचाने के लिए कोई मदद नहीं दे रही है। इससे अच्छा है कि हमें यहीं मरने के लिए छोड़ दे।
- डॉ. श्रृद्धा चौधरी, सीकर

एम्बेसी से सटे स्कूल में स्टूडेंट्स ने रातभर बंकर में बिताई। भीषण ठंड के कारण कई लोगों की तबीयत खराब हो गई।
एम्बेसी से सटे स्कूल में स्टूडेंट्स ने रातभर बंकर में बिताई। भीषण ठंड के कारण कई लोगों की तबीयत खराब हो गई।

इधर, स्टूडेंट्स का आरोप है कि एम्बेसी ने कई स्टूडेंट्स को वेस्टर्न बॉर्डर पर जाने के लिए भारी बमबारी के बीच रेलवे स्टेशन भेज दिया। जब स्टूडेंट्स को ट्रेन नहीं मिली और वे वापस एम्बेसी जाने लगे तो बीच रास्ते में यूक्रेन आर्मी ने उन्हें रोककर उन पर बंदूक तान दी। स्टूडेंट्स ने एक वीडियो जारी कर आरोप लगाया है कि एम्बेसी जबरन उन्हें शेल्टर होम से बाहर भेजने की कोशिश कर रही है। हालांकि इस आरोप पर एम्बेसी की ओर से कोई जवाब नहीं आया है।

राजस्थान की स्टूडेंट रूबिना ने दैनिक भास्कर को बताया कि एम्बेसी ने हमसे कहा कि रेलवे स्टेशन पर जाएं। करीब 300 बच्चे स्टेशन गए। 60 बच्चे ताे किसी तरह यूक्रेन के वेस्टर्न हिस्से में पहुंच गए, लेकिन कई लोगों को ट्रेन में नहीं बैठाया गया। जब वे वापस एम्बेसी आए तो घुसने से मना कर दिया गया। बड़ी मुश्किल से स्टूडेंट्स वापस एम्बेसी घुस पाए। कुछ स्टूडेंट्स ने एम्बेसी के शेल्टर होम से एक वीडियो भी जारी किया है। वीडियो की सत्यता की पुष्टि दैनिक भास्कर नहीं करता है।

स्टूडेंट्स के मुताबिक एम्बेसी हमें कह रही है कि आप बॉर्डर तक खुद जाएं, लेकिन इस बात पर ध्यान नहीं दे रही है कि इतनी बमबारी के बीच हम कैसे जाएंगे।
स्टूडेंट्स के मुताबिक एम्बेसी हमें कह रही है कि आप बॉर्डर तक खुद जाएं, लेकिन इस बात पर ध्यान नहीं दे रही है कि इतनी बमबारी के बीच हम कैसे जाएंगे।

वे अपने साथ हुआ बर्ताव बता रहे हैं, पढ़िए- उनकी आपबीती(वीडियो भी देखिए)...

हम लोगों को एम्बेसी वालों ने रेलवे स्टेशन भेजा। आपको मैसेज करके ट्रेन के बारे में जानकारी दे देंगे और एक कोड बता देंगे, जिससे आपको मैसेज की जरूरत नहीं पड़ेगी। हम लोग वहां चले गए, जब हम वहां पहुंचे तो हमें एंट्री नहीं दी गई। करीब 150 बच्चों को वापस भागना पड़ा। जब हम वापस आ रहे थे तो यूक्रेन की आर्मी ने हम पर गन तान दी। हमने बड़ी मुश्किल से उन्हें समझाया। यहां लैंग्वेज की वजह से समझाना मुश्किल होता है। हमने उनसे मिन्नतें की कि हम इंडियन एम्बेसी में जा रहे हैं। बहुत मुश्किल से हम बच कर आए। एम्बेसी आए ताे एम्बेसी वालाें ने हमसे खूब बदतमीजी की। बहुत खराब व्यवहार किया। हमें न तो खाना दे रहे है, खाना न दें, कम से कम मौत के मुंह में तो न भेजें। रेलवे स्टेशन जाने के बाद उन्होंने हमारा फोन उठाना भी बंद कर दिया है। हम बहुत मुसीबत में हैं। ये लोग चुनाव में अपनी राजनीति चमकाने लगे हैं। हालत यह है कि अभी हम रात में लाइट भी नहीं जला सकते, लेकिन अपनी समस्या बताने के लिए वीडियो बना रहे हैं। बेहतर होगा कि मोदीजी कल मन की बात न करके, हमें और अन्य लाेगों को बचाने पर ध्यान दें।

- वीडियो में भारतीय स्टूडेंट गुरप्रीत सिंह और अन्य स्टूडेंट दिख रहे हैं

स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि उन्हें गलत जानकारी देकर रेलवे स्टेशन भेजा गया।
स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि उन्हें गलत जानकारी देकर रेलवे स्टेशन भेजा गया।
एम्बेसी ने स्टूडेंट्स को अब बंकर में शिफ्ट कर दिया है। रात में बमबारी बढ़ने की वजह से यह फैसला लिया गया है।
एम्बेसी ने स्टूडेंट्स को अब बंकर में शिफ्ट कर दिया है। रात में बमबारी बढ़ने की वजह से यह फैसला लिया गया है।

एम्बेसी से बातचीत का एक और ऑडियो वायरल
यूक्रेन में इंडियन एम्बेसी की हेल्पलाइन पर अधिकारियों से बातचीत का एक और ऑडियो वायरल हो रहा है। ऑडियो में स्टूडेंट ने बताया कि वे लोग खार्किव में फंसे हुए हैं। दो दिनों से बंकर में बैठे हैं। खाने-पीने को कुछ नहीं है। एम्बेसी का जवाब सुनकर स्टूडेंट नाराज हो गया और दोनों के बीच जमकर बहस होने लगी।

ये भी पढ़ें:

रूसी कब्जे वाले शहर के बंकर में एक हजार स्टूडेंट:इंडियन एम्बेसी के पास बचाने का कोई प्लान नहीं, छात्र बोले-नहीं पहुंच सकते पोलैंड बॉर्डर

बमबारी के बीच भारतीयों को हिम्मत देने वाला VIDEO:मन में दहशत, चेहरों पर मुस्कान; बंकर में मोबाइल पर सुन रहे देशभक्ति के गाने

इंडियंस के घर छोड़ते ही रूस ने बिल्डिंग उड़ाई:कीव में इंडियन एम्बेसी ने स्टूडेंट्स को स्कूल में ठहराया, बालकनी में चटाई बिछाकर सो रहे

माइनस 5 डिग्री ठंड में 36 किलोमीटर पैदल चले स्टूडेंट:30 घंटे से पोलैंड बॉर्डर पर खुले आसमान में बैठे हैं स्टूडेंट्स, लोगों ने चाय-कॉफी पिलाई

यूक्रेन में इंडियन एम्बेसी पर स्टूडेंट्स का जमकर हंगामा:भारतीय छात्र बोले- खाना देने से मना किया, मरना ही है तो बाहर जा कर मरेंगे

पिता रशियन और मां युक्रेन से, बेटी तनाव में:युद्ध के चलते उनके बैंक ट्रांजेक्शन रुक सकते हैं, प्रोजेक्ट बीच में छोड़कर वापस लौटीं

20 घंटे से यूक्रेन-पोलैंड बॉर्डर पर फंसे बूंदी के छात्र:माइनस 4 डिग्री में सड़क पर रहने को मजबूर, खाने के लिए भी कुछ नहीं

खबरें और भी हैं...