• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Angry BJP Leader Arun Chaturvedi Put The Congress Government In The Dock, Said Why Permission To The Demonstrations Of Congress Leaders Including The Chief Minister, Why Not To The RSS?

दशहरे पर पथ संचलन की अनुमति नहीं:भड़के BJP नेता अरुण चतुर्वेदी बोले- CM समेत कांग्रेस नेताओं के प्रदर्शनों को परमिशन, RSS को क्यों नहीं?

जयपुर7 महीने पहले

RSS को राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने दशहरा पर पथ संचलन की अनुमति नहीं दी है। इससे बीजेपी भड़की है। पार्टी ने राज्य सरकार के निर्देश पर जयपुर जिला प्रशासन के विजयादशमी पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पथ संचलन को अनुमति नहीं देने की कड़े शब्दों में निंदा की है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अरुण चतुर्वेदी ने आरोप लगाया है कि पिछले दिनों कांग्रेस के जयपुर में ही कई प्रदर्शन हुए। जिनमें मुख्यमंत्री समेत मंत्री शामिल हुए तब कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई गईं।

जयपुर में सीएए को लेकर प्रदर्शन में हजारों की भीड़ में विधायक भी शामिल हुए, लेकिन तब कोरोना गाइडलाइन याद नहीं आई। यह राज्य की कांग्रेस सरकार की राजनीतिक सोच को दर्शाता है।

कोरोना की आड़ में परमिशन नहीं देना कांग्रेस सरकार का पूर्वाग्रह

बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मंत्री डॉ.अरुण चतुर्वेदी ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार ने पथ संचलन को कोरोना गाइडलाइन की आड़ में अनुमति नहीं दी है। उन्होंने कहा कि हर साल आरएसएस पथ संचलन करता है। लेकिन राज्य की कांग्रेस सरकार पूर्वाग्रह से ग्रसित सोच के कारण यह अनुमति नहीं दे रही है।

सीएम और कांग्रेस का CAA को लेकर प्रदर्शन भी सबने देखा

डॉ चतुर्वेदी ने कहा कि इसी जयपुर शहर ने लगभग एक साल पहले कोरोना की पहली लहर के समय जब कोरोना पीक पर था मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में CAA को लेकर प्रदर्शन को देखा है। पिछले कुछ दिनों में कांग्रेस की ओर से प्रदर्शन किए गए, उनमें मुख्यमंत्री समेत राज्य मंत्रिमंडल के सदस्यों ने भी कोरोना गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाते हुए भाग लिया।

मुस्लिम धार्मिक-सामाजिक कार्यकर्ता के जनाजे में कांग्रेस विधायकों समेत हजारों ने भाग लिया

चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि जयपुर में सबने देखा है, एक मुस्लिम धार्मिक-सामाजिक कार्यकर्ता के जनाजे में हजारों लोगों ने भाग लिया। जिसमें कांग्रेस के स्थानीय विधायक भी शामिल हुए। लेकिन तब सरकार को कोरोना गाइडलाइन की चिंता नहीं हुई और जब विजयादशमी के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से पथ संचलन का मौका आया, तो कोरोना गाइडलाइन का कारण बताकर अनुमति देने से इनकार कर दिया। जबकि संघ के अधिकारियों ने कोरोना के दिशा-निर्देशों की पालना करने के लिए पहले ही आश्वस्त कर दिया था।

विजयादशमी पर पथ संचलन की परम्परा आरएसएस की स्थापना से रही है

अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि सदियों से देश में विजयादशमी उत्सव को विजय दिवस के रूप में मनाने की परंपरा है और इस दिन को संघ में भी विशेष उत्सव के रूप में मनाया जाता है । साथ ही भारत माता के चित्र के साथ शस्त्रों से सजे वाहन के साथ ही पथ संचलन की परम्परा संघ की स्थापना के वक्त से चली आ रही है। कांग्रेस सरकार की ओर से इसकी अनुमति नहीं देना सरकार की राजनीतिक सोच को दर्शाता है।

खबरें और भी हैं...