• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • A Total Of 9 Refineries And 4 Petro chemical Units Will Be Built In The Refinery Project, 5 To 6 Units Will Be Ready By September 2023; Rs 9,036 Crore Has Been Spent On The Project So Far

मुख्यमंत्री ने ली बाड़मेर रिफाइनरी की प्रगति की समीक्षा बैठक:रिफाइनरी परियोजना में बनेंगी कुल 9 रिफाइनरी और 4 पेट्रो-केमिकल इकाइयां,5 से 6 इकाइयां सितम्बर 2023 तक होंगी तैयार;परियोजना पर अब तक 9,036 करोड़ रूपए खर्च

जयपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर रिफाइनरी की प्रगति की समीक्षा करते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत - Dainik Bhaskar
बाड़मेर रिफाइनरी की प्रगति की समीक्षा करते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

बाड़मेर रिफाइनरी परियोजना में कुल 9 रिफाइनरी इकाइयां और 4 पेट्रो-केमिकल इकाइयां बनेंगी। इनमें से 5 से 6 इकाइयां तो सितम्बर 2023 तक ही तैयार होजाएंगी। वर्तमान में रिफाइनरी के निर्माण स्थल पर 13,314 लोग निर्माण कार्य में लगे हैं। परियोजना की 39,084 करोड़ रूपए की अनुमानित लागत है, जिसमें से अब तक 9,036करोड़ रूपए खर्च किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार रात राजस्थान रिफाइनरी प्रोजेक्ट से सम्बन्धित कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि इसमहत्वपूर्ण परियोजना से पश्चिमी राजस्थान के जिलों में औद्योगिकविकास को गति मिलेगी और इसका लाभ की जनता को भी मिलेगा।

निवेश के लिए विश्व स्तर की कम्पनियों को आमंत्रित किया जाए-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने एचपीसीएल के अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड -19 महामारी के कारण जिन कार्यों में देरी हुई है, उनमें तेज़ी लाई जाए। उन्होंने कहा कि पेट्रो-केमिकल कॉम्प्लेक्स का सुनियोजित विकास किया जाए और इसमें निवेश के लिए विश्व स्तर की कम्पनियों को आमंत्रित किया जाए।

राज्य सरकार के सभी सम्बन्धित विभाग रिफाइनरी से जुड़े कार्यों को दें सर्वोच्च प्राथमिकता-गहलोत

मुख्यमंत्री ने रिफाइनरी के आसपास औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के कार्यों में गति लाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के सभी सम्बन्धित विभाग अपने स्तर पररिफाइनरी से जुड़े कार्यों को को सर्वोच्च प्राथमिकता दें।परियोजना के लिए बिजली, पानी, भूमि आवंटन का काम जल्द पूरा हो। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि परियोजना क्षेत्र में जनसुविधाएं विकसित करने के लिए कार्ययोजना बनाएं और सम्बन्धित जिलों में भू-उपयोग के लिए मास्टर प्लान तैयार करें।

ज़्यादा से ज़्यादा संख्या में युवाओं को कौशल प्रशिक्षण देने के निर्देश

गहलोत ने कहा कि पश्चिमी राजस्थान सहित पूरे प्रदेश के विकास के लिए पेट्रोलियमरिफाइनरी एक बहुत बड़ा सपना है, जिसमें कई बार रूकावटें आईं। क्षेत्र की जनता के लम्बेसंघर्ष और हमारी सरकार के पुरजोर प्रयासों के बाद यह प्रोजेक्ट अब गति पकड़ सका है।उन्होंने केयर्न एनर्जी द्वारा विकसित स्किल डवलपमेंट सेन्टर सहित क्षेत्र में उपलब्ध प्रशिक्षणसंस्थानों के संसाधनों का उपयोग कर ज़्यादा से ज़्यादा संख्या में युवाओं को कौशल प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए।

पेट्रोकेमिकल उद्योग लगाने से भविष्य में राजस्व और रोजगार में वृद्धि होगी

बैठक में एचपीसीएल सीएमडी एमके सुराणा, एचपीसीएल-राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड के सीईओ एस. पी. गायकवाड ने परियोजना से जुड़े कार्यों की प्रगति परप्रस्तुतीकरण दिया। इसमें बताया रिफाइनरी के साथ-साथ पेट्रो-केमिकल कॉम्प्लेक्स का निर्माण दूरगामी सोच को दर्शाता है। इससे भविष्य में राजस्व और रोजगार में वृद्धि होगी। रिफाइनरी निर्माण में आने वाली कठिनाइयों को राज्य सरकार से समय-समय पर चर्चा कर दूर किया जा रहा है।

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी बोले- राजस्थान रिफाइनरी मुख्यमंत्री का ' ड्रीम प्रोजेक्ट'

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि राजस्थान रिफाइनरी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का सार्वजनिक निर्माण, वन और पर्यावरण, श्रम व कौशल विकास ,उद्योग विभाग के अधिकारियों ने रिफाइनरी परियोजना के लिए अपने-अपने विषय से सम्बन्धित गतिविधियों पर जानकारी साझा की। रीको के एमडी आशुतोष एटी पेडनेकर ने बताया किरिफाइनरी के आसपास क्षेत्र में बड़ी संख्या में सहायक औद्योगिक इकाइयों की स्थापना के लिए स्थानीय और देश-विदेश के उद्यमियों और निवेशकों के साथ बैठकें और सम्मेलन आयोजितकिए जा रहे हैं। बैठक में खान एवं पेट्रोलियम मंत्री प्रमोद जैन भाया, विधायक मदन प्रजापत, मुख्यसचिव निरंजन आर्य, मुख्यमंत्री के सलाहकार गोविन्द शर्मा, खान व पेट्रोलियम विभागके अतिरिक्त मुख्य सचिव सुबोध अग्रवाल सहित वित्त, नगरीय विकास, इंदिरा गांधी नहरबोर्ड आदि विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...