सचिवालय में कोविड विस्फोट के बाद विजिटर्स पर रोक:ग्रुप में एंट्री और खड़े होने पर पाबंदी, 50 फीसदी रोस्टर कर्मचारियों को बुलाया

जयपुर5 महीने पहले
सचिवालय में कोविड विस्फोट के बाद विजिटर्स पर रोक

राजधानी जयपुर में सरकार के सचिवालय में दो आईएएस समेत तकरीबन 45 से ज्यादा अफसर-कर्मचारियों के कोविड पॉजिटिव पाए जाने के बाद बाहरी लोगों की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। आदेश आज से लागू हो गया है। कोरोना विस्फोट के बाद ग्रुप में सचिवालय में एंट्री और ग्रुप में कैंपस में खड़े रहने पर भी रोक लगाई गई है। कोविड हॉट स्पॉट बने सचिवालय के प्रशासन ने कार्मिक विभाग के आदेश पर एहतियात के लिए कदम उठाया है। अलग-अलग मंत्रालय भवनों में मंत्रियों से मिलने, कामों को लेकर सचिवालय के दफ्तरों में आने वाले लोगों की एंट्री रोक दी गई है। किसी बाहरी व्यक्ति के बहुत जरूरी काम से सचिवालय में आने पर संबंधित विभाग के अफसरों की परमिशन से ही एंट्री मिल सकेगी।

सचिवालय में एंट्री की नई गाइडलाइंस

सचिवालय में एंट्री को लेकर नई गाइडलाइन जारी हुई है। आदेश में बाहर से किसी काम से आने वाले विजिटर्स के ग्रुप्स पर पाबंदी लगा दी गई है। नॉन परमानेंट और क्वार्टर ली पास से आने वाले लोग भी आज से सचिवालय में एंट्री नहीं ले पाएंगे।

1.ग्रुप में विजिटर्स की एंट्री पूरी तरह बैन।

2.किसी विजिटर को सचिवालय में एंट्री के लिए रिसेप्शन पर सचिवालय कैंपस के अफसर से फोन पर परमिशन लेनी होगी। साथ ही कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लेने का सर्टिफिकेट दिखाना होगा।

3.सचिवालय के दूसरी जगह डेप्युटेड या पोस्टेड अफसरों,कर्मचारियों के अलावा गैर सरकारी लोगों को जारी किए गए अस्थाई मंथली/ क्वार्टरली/ एंट्री पास अगले आदेशों तक सस्पेंड रहेंगे।

4.रिसेप्शन या सचिवालय कैम्पस में विजिटर्स या कर्मचारी ग्रुप के रूप में खड़े नहीं हो सकेंगे।

50 फीसदी कर्मचारियों को बुलाया ऑफिस

पिछले 10 दिनों में पंचायतीराज विभाग, जन अभाव अभियोग,इलेक्शन विभाग, शिक्षा विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, सूचना जनसम्पर्क विभाग, बिजली समेत दूसरे विभागों में काफी संख्या में कर्मचारी कोरोना संक्रमित मिले हैं। कई कर्मचारियों ने बाहर जांचें करवाई हैं। जो छुट्टियों पर चल रहे हैं। ऐसे में पूरा आंकड़ा जुटा पाना भी मुश्किल हो रहा है। सरकार के निर्देश पर अब 50 फीसदी कर्मचारियों को ही रोस्टर के आधार पर सचिवालय बुलाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...