तस्कर कमलेश एनकाउंटर मामला:संघर्ष समिति का ऐलान, सीबीआई जांच की घोषणा न होने पर सरकार आंदोलन झेलने के लिए रहे तैयार

बाड़मेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संघर्ष समिति के अध्यक्ष बलराम मीडिया से बात करते हुए। - Dainik Bhaskar
संघर्ष समिति के अध्यक्ष बलराम मीडिया से बात करते हुए।

तस्कर कमलेश एनकाउंटर के सीसीटीवी फुटेज आने के बाद मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। प्रजापत समाज और सर्व समाज ने संघर्ष समिति बनाकर न्याय की मांग कर रही है। गुरुवार को संघर्ष समिति ने पत्रकार वार्ता कर सीबीआई जांच की मांग की। संघर्ष समिति ने ऐलान किया है कि सीबीआई जांच की घोषणा न होने पर सरकार बड़ा आंदोलन झेलने के लिए तैयार रहे। संघर्ष समिति के अध्यक्ष बलराम प्रजापत ने गुरुवार को प्रेस वार्ता कर पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े करते हुए गंभीर आरोप लगाये। बलराम ने कहा कि सरकार ने अभी तक उच्च स्तरीय और सीबीआई जांच पर कोई काम नहीं किया है।

लोकल एसडीएम को जांच दी है इसका स्तर इतना नही है कि जिला स्तर के अधिकारियों से ऊपर जा सके। इस जांच का कोई मतलब नहीं है। हमारी एक ही मांग है कि सीबीआई से जांच करवाई जाए। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन और भारत का कानून है अगर अपराधी है तो उसके खिलाफ विधिवत कानूनी कार्यवाही होनी चाहिये किसी को जान से मारने का अधिकार नहीं है।

जो सीसीटीवी फुटेज आये है उससे साफ जाहिर होता है यह स्पष्ट रूप से हत्या दिख रही है। इसलिये सरकार से सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। सरकार मान ले। अभी कोविड आपदा का समय है इसलिए हम सरकार से लिखित में प्रार्थना कर रहे हैं। प्रतिनिधिमंडल और जनप्रतिनिधियों के माध्यम से भी सरकार तक बात पहुंचा रहे हैं। हम मुख्यमंत्री से भी मिलेंगे। इस पूरे प्रकरण की जांच हो जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो। और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई हो।

संघर्ष समिति के राजेंद्र सिंह भियाड़ ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज, पुलिस के एकदम विरोधाभासी बयान, एसपी और हेड कांस्टेबल के बयान, मौके पर सारी परिस्थितियां, जिस तरह से कमलेश के केयर्न में व्यापार आदि सारी परिस्थितियों को देखते हुए पुलिस द्वारा जो कहानी गढ़ी गई है उससे सारे नागरिकों को संदेह हैं।

हम चाहते है कि इस पूरे प्रकरण की सीबीआई से तुरन्त जांच की घोषणा हो जाये। अगर सीबीआई की जांच नही होती है तो सरकार को बड़ा आंदोलन झेलने के लिये तैयार रहना होगा। हम चाहते हैं कि कोविड का का समय ऐसी कोई भी परेशानी ना हो जिससे आम लोगों को परेशानी उठानी पड़े। हमारी संघर्ष समिति परिवार और आम आदमी की मंशा है कि सीबीआई से जांच की जाए जिससे लोगों के मन में जो संदेह है वह दूर हो जाए अगर कोई दोषी है तो उनके खिलाफ कार्रवाई हो जाए और जो दोषी नहीं है वह फ्री हो जाए।

गौरतलब है कि 22 अप्रैल की रात तस्कर कमलेश प्रजापत का पुलिस द्वारा एनकाउंटर किया गया था। सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पक्ष-विपक्ष, और परिवार के लोगो की एक ही मांग है कि इस पूरे प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाई जाए।

खबरें और भी हैं...