पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजस्थान में सियासी संकट:भाजपा विधायक दिलावर विधानसभा में धरने पर बैठे, बसपा विधायकों के कांग्रेस में मर्जर के आदेश की कॉपी मिलने के बाद धरना समाप्त किया

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच रामगंजमंडी से भाजपा विधायक मदन दिलावर सोमवार को विधानसभा में धरने पर बैठ गए हैं।
  • दिलावर बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के फैसले की कॉपी देने की कर रहे मांग

(हर्ष खटाना). राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच रामगंजमंडी से भाजपा विधायक मदन दिलावर सोमवार को विधानसभा में धरने पर बैठ गए। दिलावर की मांग थी कि बसपा विधायकों के कांग्रेस में मर्जर के फैसले की कॉपी उन्हें नहीं दी जा रही है। दिलावर विधानसभा पहुंचे और अध्यक्ष के फैसले की प्रति लेने का प्रयास किया। फैसले की प्रति नहीं मिली तो दिलावर विधानसभा सचिव प्रमिल कुमार माथुर के कक्ष में धरने पर बैठ गए। जद्दोजहद के बाद दिलावर को अध्यक्ष के फैसले की प्रति दी गई। इसके बाद उन्होंने करीब 40 मिनट बाद धरना समाप्त किया।

दिलावर का आरोप है कि दल बदल कानून का उल्लंघन कर बसपा विधायकों को कांग्रेस में शामिल किया गया है जबकि सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि विधानसभा अध्यक्ष स्वतंत्र रूप से विधायकों के दल बदल को निर्धारित नहीं कर सकते हैं।

मुझे सुने बिना ही याचिका निरस्त कर दी
इससे पहले रविवार को दिलावर ने कहा था कि बसपा विधायकों के कांग्रेस में मर्जर को उन्होंने चुनौती दी थी। लेकिन उन्हें अखबारों से पता चला कि उन्हें सुने बिना ही स्पीकर ने निर्णय ले लिया। मदन दिलावर ने रविवार को कहा था कि सचिन पायलट खेमे के विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष ने आनन-फानन में नोटिस जारी कर जवाब देने के आदेश जारी कर दिए, जबकि मेरे नोटिस को मुझे सुने बिना ही निरस्त कर दिया। बसपा के छह विधायक कांग्रेस में शामिल हुए थे, जो कि गलत है। इसे मैंने विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष चुनौती दी थी। अब मैं अपनी पार्टी नेतृत्व से चर्चा कर कानूनी कार्रवाई करूंगा।

भाजपा विधायक मदन दिलावर ने कहा है कि कि विधानसभा अध्यक्ष ने बीएसपी के हाथी के निशान पर चुने हुए 6 सदस्यों के गत 18 सितंबर को कांग्रेस में विलय के आदेश जारी किए। इस पर मैंने संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत राष्ट्रीय दल बीएसपी के कांग्रेस में विलय पर आपत्ति दर्ज कराई तथा इन 6 सदस्यों को अयोग्य करार किए जाने की याचिका 16 मार्च को विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष प्रस्तुत की थी। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कोई विचार नहीं किया तो 17 जुलाई को याचिका पर शीघ्र निर्णय किए जाने को स्मरण पत्र जारी कर अध्यक्ष महोदय को निवेदन किया गया। मेरी जानकारी के अनुसार इस पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

मुझे अखबार से मालूम चला मेरी याचिका निरस्त हो गई
दिलावर ने कहा कि मुझे समाचार पत्रों में प्रकाशित समाचार से ज्ञात हुआ कि 6 विधायकों के विरुद्ध दल विरोधी गतिविधियों की याचिका को निरस्त कर दिया। यह प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध है। वहीं कांग्रेस के 19 सदस्यों के विरूद्ध प्रस्तुत दल विरोधी याचिका जिस दिन यानी दिनांक 14 जुलाई को याचिका प्रस्तुत हुई उसी दिन रात्री में ही नोटिस जारी कर माननीय सदस्यों का दिनांक 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने के आदेश माननीय अध्यक्ष महादेय ने दिए।

मुझे सुने बिना, नोटिस दिए बिना याचिका निरस्त कर दी
दिलावर ने कहा कि मैं आश्चर्यचकित हूं कि यह याचिका मुझे बिना सुने, बिना नोटिस दिए निरस्त कर दी गई। इस बारे में मुझे समाचार पत्रों में प्रकाशित समाचार से पता चला। यह न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध है। वही दूसरी ओर कांग्रेस के 19 सदस्यों के विरूद्ध प्रस्तुत दल विरोधी याचिका 14 जुलाई को प्रस्तुत हुई और उसी दिन रात को नोटिस जारी कर सदस्यों को 17 जुलाई तक जवाब प्रस्तुत करने के आदेश अध्यक्ष महादेय ने दिए। दिलावर ने कहा कि मैं इस दोहरे रवैये के खिलाफ अपने नेतृत्व से चर्चा कर आवश्यक कानूनी कार्रवाई करूंगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें