• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bollywood Party Drug Has Now Reached The Villages Of Rajasthan, Here The Consignment Of Drugs Goes To Other States

बॉलीवुड से राजस्थान के गांवों तक पहुंचा खतरनाक ड्रग:नमक और चावल जैसे सीक्रेट कोड नेम से बेच रहे पैडलर; कीमत सोने के बराबर

जयपुर7 महीने पहले

बॉलीवुड पार्टियों से चर्चा में आया एमडी, एमडीएमए (मिथाइलीनडाइऑक्सी मेथाम्फेटामाइन) ड्रग अब राजस्थान के गांवों के तक पहुंच गया है। एक्टर सुशांत राजपूत और आर्यन खान केस के बाद मुंबई पुलिस ड्रग पैडलर के खिलाफ अभियान चला रही है, लेकिन पैडलर इसे राजस्थान तक ले आए हैं। गुजरात, राजस्थान और आस-पास के राज्यों में एमडी ड्रग की बड़ी खेप भेजी जा रही है।

इनमें सबसे ज्यादा जोधपुर, नागौर और जयपुर के युवा इस ड्रग की गिरफ्त में है। इस 1 ग्राम ड्रग की कीमत 1 ग्राम सोने के बराबर है। एक ग्राम ड्रग करीब तीन से चार हजार रुपए में मिलता है। इस शौक के लिए युवा बाद में इसकी तस्करी करने लग जाते हैं। महज दो से तीन बार लेने पर ही इस ड्रग की लत लग जाती है।

भास्कर ने जोधपुर और नागौर में ड्रग नेटवर्क की पड़ताल की तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। ड्रग पैडलर संपर्क करने पर उसने पहले तो बात करने से मना कर दिया। काफी कोशिशों के बाद वह तैयार हुआ और पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर उसने कई खुलासे किए। उसने बताया कि एमडी ड्रग अब गांवों में आसानी से मिल जाता है। पुलिस को इसकी भनक तक नहीं है। यहां इसे नमक, चावल, म्याऊं-म्याऊं नाम से ही बेचा जाता है।

मुंबई में चला अभियान तो राजस्थान फैलाया जाल
पैडलर ने बताया कि बॉलीवुड में एक्टर सुशांत राजपूत, आर्यन खान के मामलों के बाद पुलिस ने ड्रग के खिलाफ अभियान चला रखा है। इसमें कई बड़े ड्रग पैडलर को भी पकड़ा है। इसी कारण अब मुंबई से राजस्थान के गांवों तक जाल फैला दिया है। यहां मुंबई से सस्ती दरों पर नशा सप्लाई किया जाता है। इससे राजस्थान के तस्करों को मोटी कमाई हो रही है।

जोधपुर से गुजरात जा रही है नशे की खेप
जोधपुर से अब एमडी ड्रग गुजरात तक सप्लाई हो रहा है। अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच ने करीब दो महीने पहले जोधपुर से माउंट आबू होते हुए बस से आ रहे एक युवक ताहिर कुरैशी को पकड़ा था। उसके पास से 250 ग्राम मेफेड्रोन बरामद किया गया। उसे यह ड्रग तारिक शेख ने जोधपुर से यहां पहुंचाने का बोला था। दोनों से पूछताछ में सामने आया कि नशे की यह खेप उन्होंने जोधपुर के एक पैडलर अगसर खान से ली थी। अगसर खान यह ड्रग जोधपुर से गुजरात के बड़े शहर में सप्लाई कर रहा था।

गांव में ड्रग देख पुलिस चौंक गई
जोधपुर के पीपाड़ थाना पुलिस ने पिछले महीने बेनण गांव में एक तस्कर के घर दबिश दी थी। पुलिस तब चौंक गई, जब पुलिस को वहां से 20 ग्राम एमडी मिली। यहां एमडी ड्रग मिलने का पहला मामला था। पुलिस ने बेनण गांव के भीखाराम जाट के घर से 20 ग्राम एमडी, 56 ग्राम स्मैक, 50 ग्राम अफीम और 1 लाख 99 हजार कैश भी जब्त किया।

जोधपुर के पीपाड़ तहसील में सबसे ज्यादा नशेड़ी
जोधपुर के पीपाड़ तहसील में बेनण, कोसाणा, खांगटा जैसे गांवों में युवा एमडी का नशा सबसे ज्यादा करते हैं। यहीं दो माह में एमडी तस्करी के दो मामले पकडे़ गए। यह एक ग्राम, दो ग्राम, 8 ग्राम, 13 ग्राम, 15 ग्राम, 20 ग्राम व 50 ग्राम या इससे अधिक वजन में पुड़िया में बिक रहा है।

नागौर में चावल के नाम से बेचता है
नागौर में एमडी ड्रग चावल के नाम से बिकता है। यहां चुनिंदा दुकानों और होटलों में एमडी ड्रग चावल के कोडवर्ड से 2500 से 3000 हजार रुपए प्रति ग्राम में बिक रहा है। नागौर शहर में ही एमडी की रोजाना की खपत 4 लाख रुपए की है। यहां तस्करों ने पुलिस से बचने के लिए ड्रग का चावल नाम से कोडवर्ड बनाया है। यह कोडवर्ड वही जानते हैं, जो ड्रग लेते हैं। युवा इसे गुटखे के साथ होते हैं और पानी के साथ घोलकर भी पीते हैं। यहां एमडी की सर्वाधिक सप्लाई मुंबई से ही हो रही है।

राजस्थान और मुंबई का ड्रग कनेक्शन
मुंबई की क्राइम ब्रांच ने 26 अक्टूबर दो पुरुष और दो महिलाओं समेत चार लोगों को पकड़ा था। चारों आरोपी मुंबई के पवई इलाके में रहने वाले थे। पूछताछ में सामने आया कि आरोपी सड़क मार्ग से राजस्थान से मुंबई 1.44 करोड़ रुपए मूल्य की 24 किलो चरस लेकर आ रहे थे। इससे पहले पुलिस ने 20 अक्टूबर को सायन इलाके में 22 करोड़ की हेरोइन ड्रग के साथ अमीन शेख को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में सामने आया कि यह ड्रग राजस्थान से ट्रेनों और बसों में मुंबई लाते है।

हेरोइन और कोकेन के बाद सबसे महंगा नशा
देश में हेरोइन और कोकेन के बाद एमडी, एमडीएमए सबसे महंगा नशा है। 1 ग्राम की कीमत 3 से 4 हजार रुपए होती है। इसमें भी कुछ वैरायटी के ड्रग की 1 ग्राम की कीमत 10 हजार रुपए तक है।

भास्कर स्टिंग की जानकारी पुलिस को भी
दैनिक भास्कर के इस स्टिंग ऑपरेशन की पुलिस अधिकारियों को पूरी जानकारी है। भास्कर का यही उद्देश्य है कि नशे का कारोबार कर रहे लोग हर हाल में पकड़े जाएं और युवा नशे की गिरफ्त से बाहर निकल सकें।