• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bumper Arrivals And Weak Monsoon Have Led To A Fall In The Wholesale Prices In The Market, But Buyers Are Not Available.

कद्दू और लौकी सिर्फ 2-3 रुपए किलो:बंपर आवक से मुहाना मंडी  में गिरे थाक भाव, इस सीजन में अब तक के सबसे कम दाम, फेंकनी पड़ रही है सब्जी

जयपुर2 महीने पहले
इस बार मुहाना मंडी में बिक्री के लिए थोक भाव में सब्जियां आ रही है।

सबसे बड़े मुहाना टर्मिनल मार्केट में इन दिनों सब्जियों के थोक भाव गिर गए हैं। मंडी में आ रही सब्जियों की बंपर आवक सबसे बड़ा कारण है। सामान्य बारिश होने के कारण ही सब्जियों की फसल के तेजी से तैयार होने से आवक बढ़ गई। इसका असर पूरी तरह इनके गिरे भावों में साफ दिखाई दे रहा है।

हालात ये हैं कि कद्दू और लौकी तो केवल 2 से 3 रुपए किलो पर आ गए हैं। पालक 5 से 8 रुपए, भिंडी 4 से 6 रुपए, टमाटर 10 से 12 रुपए किलो तक नीचे पहुंच गए हैं। सब्जी विक्रेताओं व आढ़तियों का कहना है कि इन भावों से किसानों को बारदाने का ही नहीं, बल्कि खेतों से कटाई तक का पैसा भी नहीं मिल रहा है।

सब्जीआज के भावपहले के भाव
कद्दू2 से 312-15
लौकी2 से 310-15
पालक5 से 812-15
भिन्डी4 से 620-25
खीरा8 से 1018-20
टमाटर10 से 1222-24
मिर्च10 से 1320-22
बैंगन10 से 1218-20
पत्ता गोभी10 से 1220-22
धनिया10 से 1530-32
शिमला मिर्च18 से 2032-34
फूलगोभी30 से 3540-42
अदरक50 से 5264-66

इसलिए घटे सब्जियों के भाव

मंडी व्यापारी वासुमल हेमराजानी ने बताया कि पिछले साल जिस सब्जी के भाव किसानों को अधिक मिले, इस साल उसी के भाव जमीन पर गिर गए। वजह ज्यादा फसल होना है। यह किसानों की अदूरदर्शिता का परिणाम भी कह सकते हैं। देशभर में ऐसे ही चलता है। जिस सब्जी के भाव इस बार अधिक मिलते हैं, उसकी ही अगली बार बुवाई ज्यादा करता है। हर बार एक-दो सब्जियों के साथ ऐसा होता है। यही कारण है कि कुछ सब्जियां अधिक क्षेत्र में उगाई गई और आवक बेहताशा बढ़ गई।

ज्यादा बारिश में गल जाती हैं सब्जियां

आलू विक्रेता संघ के अध्यक्ष मदनकुमार शर्मा ने बताया कि मानसून में अधिक बारिश सब्जियों के लिए खराब होता है। इस बार मानसून में बारिश सामान्य हुई है। रुक-रुक कर हुई है। इसके कारण सब्जी की पैदावार अच्छी हुई है। यदि ज्यादा बारिश होती तो सब्जियां गलने में देर नहीं लगती और उनकी आवक बहुत कम हो जाती। ऐसे में मानसून में कम बारिश होने से सब्जियां मुहाना में ज्यादा आई हैं। यही कारण है कि माटर, खीरा, मिर्च, लौकी की बम्पर आवक हो रही है।

कई राज्यों से मुहाना मण्डी में आ रही हैं सब्जियां

जयपुर सब्जी थोक विक्रेता संघ, मुहाना टर्मिनल मार्केट के अध्यक्ष राहुल तंवर ने बताया कि मण्डी में सब्ज़ियां दूसरे राज्यों से भी आ रही हैं। टमाटर औरंगाबाद और नासिक से आ रहा है। अदरक बेंगलुरू से आ रही है। मिर्च मध्यप्रदेश से आ रही है। इनकी आवक भी अच्छी चल रही है। धनिया राजस्थान के उदयपुर और मध्यप्रदेश से आ रहा है। पालक मुहाना मंडी के आस-पास के क्षेत्रों से आ रहा है। पत्तागोभी पटना से, फूलगोभी जयपुर के पास पावटा और एमपी के इंदौर से आ रही है। लौकी उत्तरप्रदेश से मुहाना मंडी आ रही है।